A friend asked another friend


 लोगों के घरों में अंधे बनकर जाओ और वहां से गूंगे बनकर निकलो।।
आंख बंद करके एक बार विचार जरूर करें....

एक सहेली ने दूसरी सहेली से पूछा:- बच्चा पैदा होने की खुशी में तुम्हारे पति ने तुम्हें क्या तोहफा दिया ?
सहेली ने कहा - कुछ भी नहीं! 
उसने सवाल करते हुए पूछा कि क्या ये अच्छी बात है ? क्या उस की नज़र में तुम्हारी कोई कीमत नहीं ? 
लफ्ज़ों का ये ज़हरीला बम गिरा कर वह सहेली दूसरी सहेली को अपनी फिक्र में  छोड़कर चलती बनी।।
थोड़ी देर बाद शाम के वक्त उसका पति घर आया और पत्नी का मुंह लटका हुआ पाया।। फिर दोनों में झगड़ा हुआ।।
एक दूसरे को लानतें भेजी।। मारपीट हुई, और आखिर पति पत्नी में तलाक हो गया।।

जानते हैं प्रॉब्लम की शुरुआत कहां से हुई ? उस फिजूल जुमले से जो उसका हालचाल जानने आई सहेली ने कहा था।।

रवि ने अपने जिगरी दोस्त पवन से पूछा:- तुम कहां काम करते हो? 
पवन- फला दुकान में।। रवि- कितनी तनख्वाह देता है मालिक? 
पवन-18 हजार।।
 रवि-18000 रुपये बस, तुम्हारी जिंदगी कैसे कटती है इतने पैसों में ? 
पवन- (गहरी सांस खींचते हुए)- बस यार क्या बताऊं।।
मीटिंग खत्म हुई, कुछ दिनों के बाद पवन अब अपने काम से बेरूखा हो गया।। और तनख्वाह बढ़ाने की डिमांड कर दी।। जिसे मालिक ने रद्द कर दिया।। पवन ने जॉब छोड़ दी और बेरोजगार हो गया।। पहले उसके पास काम था अब काम नहीं रहा।।

एक साहब ने एक शख्स से कहा जो अपने बेटे से अलग रहता था।। तुम्हारा बेटा तुमसे बहुत कम मिलने आता है।। क्या उसे तुमसे मोहब्बत नहीं रही? बाप ने कहा बेटा ज्यादा व्यस्त रहता है, उसका काम का शेड्यूल बहुत सख्त है।। उसके बीवी बच्चे हैं, उसे बहुत कम वक्त मिलता है।। 
पहला आदमी बोला- वाह!! यह क्या बात हुई, तुमने उसे पाला-पोसा उसकी हर ख्वाहिश पूरी की, अब उसको बुढ़ापे में व्यस्तता की वजह से मिलने का वक्त नहीं मिलता है।। तो यह ना मिलने का बहाना है।।
 इस बातचीत के बाद बाप के दिल में बेटे के प्रति  शंका पैदा हो गई।। बेटा जब भी मिलने आता वो ये ही सोचता रहता कि उसके पास सबके लिए वक्त है सिवाय मेरे।।

याद रखिए जुबान से निकले शब्द दूसरे पर बड़ा गहरा असर डाल देते हैं।। बेशक कुछ लोगों की जुबानों से शैतानी बोल निकलते हैं।।  हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में बहुत से सवाल हमें बहुत मासूम लगते हैं।। 
जैसे-
तुमने यह क्यों नहीं खरीदा।।
तुम्हारे पास यह क्यों नहीं है।।
तुम इस शख्स के साथ पूरी जिंदगी कैसे चल सकती हो।।
तुम उसे कैसे मान सकते हो।। वगैरा वगैरा।।

इस तरह के बेमतलबी फिजूल के सवाल नादानी में या बिना मकसद के हम पूछ बैठते हैं।। 
जबकि हम यह भूल जाते हैं कि हमारे ये सवाल सुनने वाले के दिल में नफरत या मोहब्बत का कौन सा बीज बो रहे हैं।।

आज के दौर में हमारे इर्द-गिर्द, समाज या घरों में जो टेंशन टाइट होती जा रही है, उनकी जड़ तक जाया जाए तो अक्सर उसके पीछे किसी और का हाथ होता है।। वो ये नहीं जानते कि नादानी में या जानबूझकर बोले जाने वाले जुमले किसी की ज़िंदगी को तबाह कर सकते हैं।।
ऐसी हवा फैलाने वाले हम ना बनें।।

 लोगों के घरों में अंधे बनकर जाओ और वहां से गूंगे बनकर निकलो।।

आंख बंद करके एक बार विचार जरूर करें....

http://www.anxietyattak.com/2018/01/a-friend-asked-another-friend.html



Click on Your Birth Month Link 
And 
Know What does your Birth Month 
Say About You ?



January -   https://goo.gl/ypGTxL

February -  https://goo.gl/wyijb8








September -   https://goo.gl/8fAV1y

October -  https://goo.gl/wUMWzQ


November -  https://goo.gl/ksxMT5

December -  https://goo.gl/XASAhv


And 
Share with all your Friends and Family

-- 






A friend asked another friend: - What gift did your husband give you in the joy of being born?

Saheli said - nothing!

He asked in question, is this a good thing? 

Do not you have any cost?

By throwing these poisonous bombs of words, the friend left the other friend in his concern and moved on.
After a while, her husband came home in the evening and found the wife's face hanging. Then there was a fight between the two.
Sentenced to each other .. Married, and finally the husband got divorced in the wife.

Do you know where the problem started? From that Fijul Joomla, who came to know about his movements, I said Saheli.

Ravi asked his best friend Pawan: - Where do you work?
In the wind-blossom shop .. Ravi- How much salary does the boss give ?

Wind - 18 thousand ..

 Ravi-18000 bucks, how do you cut your life in so many money?
Pawan- (drawing a deep breath) - Just tell me what the bus.
The meeting ended, after a few days, Pawan was now out of work. And demanded to raise salaries .. Which the owner canceled. Pawan left his job and became unemployed .. First time she had work, she was no longer working.

A sahib said to a man who lived separately from his son. Your son comes to see you very little .. Is not she in love with you? Father said the son is very busy, his work schedule is very strict .. She is her biological child, she gets very little time ..
The first man said - Wow !! What has happened, you fulfilled her every desire, and now she does not get time to meet because of her busyness. So it's an excuse to not get it.
 After this conversation, in the heart of the father there was a doubt about the son .. Whenever the son comes to meet, he keeps thinking that he has time for everyone except me ..

Remember, the words from zuban make a big impact on the other. Of course, some people speak the satanic speech. Many questions in our everyday life seem very innocent.
like-
Why did not you buy this ..
Why do not you have it
How can you walk whole life with this person?
How can you believe him? Etcetera etc ..

We ask questions of this kind of unconsciously disrespectful or without purpose.
While we forget that our questions are sowing the seeds of hatred or love in the heart of the listener.

In today's era, the tension that is becoming tight in our surroundings, societies or houses, is rooted in the root of someone else's hand. They do not know that those who are spoken in ignorance or deliberately can ruin someone's life.
We do not become like this air propagandist ..

 Go blind in the homes of people and go dumb from there.


Turn off the eye once and for sure ...



एक सहेली ने दूसरी सहेली से पूछा:- बच्चा पैदा होने की खुशी में तुम्हारे पति ने तुम्हें क्या तोहफा दिया ?
सहेली ने कहा - कुछ भी नहीं! 
उसने सवाल करते हुए पूछा कि क्या ये अच्छी बात है ? क्या उस की नज़र में तुम्हारी कोई कीमत नहीं ? 
लफ्ज़ों का ये ज़हरीला बम गिरा कर वह सहेली दूसरी सहेली को अपनी फिक्र में  छोड़कर चलती बनी।।
थोड़ी देर बाद शाम के वक्त उसका पति घर आया और पत्नी का मुंह लटका हुआ पाया।। फिर दोनों में झगड़ा हुआ।।
एक दूसरे को लानतें भेजी।। मारपीट हुई, और आखिर पति पत्नी में तलाक हो गया।।

जानते हैं प्रॉब्लम की शुरुआत कहां से हुई ? उस फिजूल जुमले से जो उसका हालचाल जानने आई सहेली ने कहा था।।

रवि ने अपने जिगरी दोस्त पवन से पूछा:- तुम कहां काम करते हो? 
पवन- फला दुकान में।। रवि- कितनी तनख्वाह देता है मालिक? 
पवन-18 हजार।।
 रवि-18000 रुपये बस, तुम्हारी जिंदगी कैसे कटती है इतने पैसों में ? 
पवन- (गहरी सांस खींचते हुए)- बस यार क्या बताऊं।।
मीटिंग खत्म हुई, कुछ दिनों के बाद पवन अब अपने काम से बेरूखा हो गया।। और तनख्वाह बढ़ाने की डिमांड कर दी।। जिसे मालिक ने रद्द कर दिया।। पवन ने जॉब छोड़ दी और बेरोजगार हो गया।। पहले उसके पास काम था अब काम नहीं रहा।।

एक साहब ने एक शख्स से कहा जो अपने बेटे से अलग रहता था।। तुम्हारा बेटा तुमसे बहुत कम मिलने आता है।। क्या उसे तुमसे मोहब्बत नहीं रही? बाप ने कहा बेटा ज्यादा व्यस्त रहता है, उसका काम का शेड्यूल बहुत सख्त है।। उसके बीवी बच्चे हैं, उसे बहुत कम वक्त मिलता है।। 
पहला आदमी बोला- वाह!! यह क्या बात हुई, तुमने उसे पाला-पोसा उसकी हर ख्वाहिश पूरी की, अब उसको बुढ़ापे में व्यस्तता की वजह से मिलने का वक्त नहीं मिलता है।। तो यह ना मिलने का बहाना है।।
 इस बातचीत के बाद बाप के दिल में बेटे के प्रति  शंका पैदा हो गई।। बेटा जब भी मिलने आता वो ये ही सोचता रहता कि उसके पास सबके लिए वक्त है सिवाय मेरे।।

याद रखिए जुबान से निकले शब्द दूसरे पर बड़ा गहरा असर डाल देते हैं।। बेशक कुछ लोगों की जुबानों से शैतानी बोल निकलते हैं।।  हमारी रोज़मर्रा की ज़िंदगी में बहुत से सवाल हमें बहुत मासूम लगते हैं।। 
जैसे-
तुमने यह क्यों नहीं खरीदा।।
तुम्हारे पास यह क्यों नहीं है।।
तुम इस शख्स के साथ पूरी जिंदगी कैसे चल सकती हो।।
तुम उसे कैसे मान सकते हो।। वगैरा वगैरा।।

इस तरह के बेमतलबी फिजूल के सवाल नादानी में या बिना मकसद के हम पूछ बैठते हैं।। 
जबकि हम यह भूल जाते हैं कि हमारे ये सवाल सुनने वाले के दिल में नफरत या मोहब्बत का कौन सा बीज बो रहे हैं।।

आज के दौर में हमारे इर्द-गिर्द, समाज या घरों में जो टेंशन टाइट होती जा रही है, उनकी जड़ तक जाया जाए तो अक्सर उसके पीछे किसी और का हाथ होता है।। वो ये नहीं जानते कि नादानी में या जानबूझकर बोले जाने वाले जुमले किसी की ज़िंदगी को तबाह कर सकते हैं।।
ऐसी हवा फैलाने वाले हम ना बनें।।

 लोगों के घरों में अंधे बनकर जाओ और वहां से गूंगे बनकर निकलो।।
आंख बंद करके एक बार विचार जरूर करें....















Monthly Task and responsibilities: -

1. 50 Directory submissions
2. 10 Social Bookmarking Submissions
3. 10 Article Submissions (1 article x 10 article directories)
4. 10 Press Release Submissions (1 press release x 10 press release websites)
5. 10 Blog Submissions
6. 1 unique, 400 word article written
7. 1 unique, 400 word press releases
8. 15 One Way back links with mix PR
9. Meta tags changes suggestions
10. Keyword research
11. Competitor Analysis
12. Heading tag changes
13. Alt tag changes
14. Interlinking wherever required.
15 Keyword density in site content.
16. HTML Site Map
17. XML site map and Submission in webmaster tool.

Comments