Paradise Papers and The Wire Reported in Express

Report of Paradise Papers and The Wire Reported in Express
Hindi readers should buy today's English Indian Express. You will be better as a reader. In Hindi, all this will not be obtained because most of the Hindi newspaper's editors are the grocers of the government of their era.

It is a very skill work to understand corporate documents and drawbacks in it. The ability to understand the inner secrets does not happen in everyone. I used to raise my hand too many times for this reason too. In the newsroom, there are no people with such skills that you can manubulate easily or you can move forward by asking.
It has been resolved by the International Consortium of Investigative Journalists. A group of 96 news organizations from around the world have been formed. There are also lawyers, who understand corporate accounts, as well as chartered accountants. Express is part of it. You will not find any Hindi newspaper shareholder. You can not do the reporting of the corporate without the journalists' global network.

Having understood the reading of 1 crore 30 million corporate documents, newspapers in the world have started to appear. Today in the Indian Express it is featured on many pages. Will print even further. Combining the Panama Papers and Paradise Papers, five hundred thousand people have the money to capture the system. You will continue to tear down your morals, but this cruel aristocratic system will be in full swing. It does not make any difference. There is no morality here. That's the front of ethics.
The name of RK Sinha, the richest and BJP MP in the Rajya Sabha. There is also the name of Jayant Sinha. Both have responded. The celebration of black money is going to be celebrated on the anniversary of the ban on bondage. On such occasions, this inspection of Paradise Papers will prevent us from flowing emotionally. The names of Amitabh Bachchan, Ashok Gehlot, Dr. Ashok Seth, Coaching Company Fitzi, Neera Radia are also named. In the coming days, no one knows who Kiss will come from, not from the media company to the pharmaceutical company.
If you read Jayant Sinha's cleanliness in the Express's report, then it would seem that there is no special case. When you read this news on PANDO.COM on May 26, 2014 on the analysis of MARKS AMES, it will be seen that the game has been played with you. Now there is no need to abuse or to abuse. What has been printed today, MARK AMES had written on May 26, 2014 that the Omeadian Network was working for Modi's victory. That is, in 2009, the Omidyar Network invested the most in India, its director Jayant Sinha had a big role in this investment. In 2013 Jayant Sinha resigned and announced to join Modi's Vijay campaign. In the same year, Narendra Modi gave a speech in a gathering of traders that there is a need to open e-commerce. It was just opposite to BJP's policy. At that time, the BJP was strongly opposing foreign investment in the retail sector in Parliament.

 The BJP-backed merchants were standing firmly with the party that the BJP was only protecting its interests, but he did not even know that this party has been affected by a network whose purpose is only the echo. Increasing the opportunity of foreign investment in e-commerce

I got to know about PANDO.COM today. I do not know what that is but you also think that on May 26, 2014, it was only going to understand the game behind the scenes. We and you will never understand this kind of game and are not understandable. Only then does the leader see our spectacle by throwing rotten bread of Hindu Muslims before us.

When Modi won, the Omemyar Network congratulated him by tweeting. Telegraph has been cited in the report of a press conference in Hazaribagh. In which local BJP leader Shiv Shankar Prasad Gupta says that Jayant Sinha has worked with Modi's team for two years in 2012-13. During this time, Jayant Sinha was also working in Omidiyar Network. In his reply, he said that he resigned in 2013.

In this, Mark has written that Jayant Sinha is an officer in the Ondiar Network, but he is a director in the Think Tank India Foundation connected to the BJP. The news has been printed in the wire about this foundation. Shaurya Doval, son of National Security Adviser Ajit Doval, is the founder of this foundation. Jayant Sinha used to advocate for exemption of foreign investment in e-commerce while his party used to pretend to strongly protest against foreign investment in the retail sector. How do people see this game? what understand. It is very difficult. Express reports should be read with the wire.in and PANDO.COM.


Are you right to understand such a game? My heart has sat down. When we were reading the wire report, we did not have a three year old report of PANDO.COM. Then we did not have Paradise Papers. Do we really know that these leaders who appear in front of us day and night are not the front of any company or network? Do we know that this is the reason behind the victory of 2014











एक्सप्रेस में छपे पैराडाइस पेपर्स और द वायर की रिपोर्टहिन्दी के पाठकों को आज का अंग्रेज़ी वाला इंडियन एक्सप्रेस ख़रीद कर रख लेना चाहिए। एक पाठक के रूप में आप बेहतर होंगे। हिन्दी में तो यह सब मिलेगा नहीं क्योंकि ज्यादातर हिन्दी अख़बार के संपादक अपने दौर की सरकार के किरानी होते हैं।
कारपोरेट के दस्तावेज़ों को समझना और उसमें कमियां पकड़ना ये बहुत ही कौशल का काम है। इसके भीतर के राज़ को समझने की योग्यता हर किसी में नहीं होती है। मैं तो कई बार इस कारण से भी हाथ खड़े कर देता हूं। न्यूज़ रूम में ऐसी दक्षता के लोग भी नहीं होते हैं जिनसे आप पूछकर आगे बढ़ सकें वर्ना कोई आसानी से आपको मैनुपुलेट कर सकता है।
इसका हल निकाला है INTERNATIONAL CONSORTIUM OF INVESTIGATIVE JOURNALISTS ने। दुनिया भर के 96 समाचार संगठनों को मिलाकर एक समूह बना दिया है। इसमें कारपोरेट खातों को समझने वाले वकील चार्टर्ड अकाउंटेंट भी हैं। एक्सप्रेस इसका हिस्सा है। आपको कोई हिन्दी का अख़बार इसका हिस्सेदार नहीं मिलेगा। बिना पत्रकारों के ग्लोबल नेटवर्क के आप अब कोरपोरेट की रिपोर्टिंग ही नहीं कर सकते हैं।
1 करोड़ 30 लाख कारपोरेट दस्तावेज़ों को पढ़ने समझने के बाद दुनिया भर के अख़बारों में छपना शुरू हुआ है। इंडियन एक्सप्रेस में आज इसे कई पन्नों पर छापा है। आगे भी छापेगा। पनामा पेपर्स और पैराडाइस पेपर्स को मिलाकर देखेंगे तो पांच सौ हज़ार लोगों का पैसे के तंत्र पर कब्ज़ा है। आप खुद ही अपनी नैतिकता का कुर्ता फाड़ते रह जाएंगे मगर ये क्रूर कुलीन तंत्र सत्ता का दामन थामे रहेगा। उसे कोई फर्क नहीं पड़ता है। उसके यहां कोई नैतिकता नहीं है। वो नैतिकता का फ्रंट भर है।
राज्य सभा में सबसे अमीर और बीजेपी के सांसद आर के सिन्हा का भी नाम है। जयंत सिन्हा का भी नाम है। दोनों ने जवाब भी दिया है। नोटबंदी की बरसी पर काला धन मिटने का जश्न मनाया जाने वाला है। ऐसे मौके पर पैराडाइस पेपर्स का यह ख़ुलासा हमें भावुकता में बहने से रोकेगा। अमिताभ बच्चन, अशोक गहलोत, डॉ अशोक सेठ, कोचिंग कंपनी फिट्जी, नीरा राडिया का भी नाम है। आने वाले दिनों में पता नहीं किस किस का नाम आएगा, मीडिया कंपनी से लेकर दवा कंपनी तक मालूम नहीं।
एक्सप्रेस की रिपोर्ट में जयंत सिन्हा की सफाई पढ़ेंगे तो लगेगा कि कोई ख़ास मामला नहीं है। जब आप इसी ख़बर को PANDO.COM पर 26 मई 2014 को MARKS AMES के विश्लेषण को पढ़ेंगे तो लगेगा कि आपके साथ तो खेल हो चुका है। अब न ताली पीटने लायक बचे हैं न गाली देने लायक। जो आज छपा है उसे तो MARK AMES ने 26 मई 2014 को ही लिख दिया था कि ओमेदियार नेटवर्क मोदी की जीत के लिए काम कर रहा था। यही कि 2009 में ओमेदियार नेटवर्क ने भारत में सबसे अधिक निवेश किया, इस निवेश में इसके निदेशक जयंत सिन्हा की बड़ी भूमिका थी। 2013 में जयंत सिन्हा ने इस्तीफा देकर मोदी के विजय अभियान में शामिल होने का एलान कर दिया। उसी साल नरेंद्र मोदी ने व्यापारियों की एक सभा मे भाषण दिया कि ई-कामर्स को खोलने की ज़रूरत है। यह भाजपा की नीति से ठीक उलट था। उस वक्त भाजपा संसद में रिटेल सेक्टर में विदेश निवेश का ज़ोरदार विरोध कर रही थी। भाजपा समर्थक व्यापारी वर्ग पार्टी के साथ दमदार तरीके से खड़ा था कि उसके हितों की रक्षा भाजपा ही कर रही है मगर उसे भी नहीं पता था कि इस पार्टी में एक ऐसे नेटवर्क का प्रभाव हो चुका है जिसका मकसद सिर्फ एख ही है। ई कामर्स में विदेश निवेश के मौके को बढ़ाना।
मुझे PANDO.COM के बारे में आज ही पता चला। मैं नहीं जानता हूं क्या है लेकिन आप भी सोचिए कि 26 मई 2014 को ही पर्दे के पीछे हो रहे इस खेल को समझ रहा था। हम और आप इस तरह के खेल को कभी समझ ही नहीं पाएंगे और न समझने योग्य हैं। तभी नेता हमारे सामने हिन्दू मुस्लिम की बासी रोटी फेंकर हमारा तमाशा देखता है।
जब मोदी जीते थे तब ओमेदियार नेटवर्क ने ट्वीट कर बधाई दी थी। टेलिग्राफ में हज़ारीबाग में हे एक प्रेस कांफ्रेंस की रिपोर्ट का हवाला दिया गया है। जिसमें स्थानीय बीजेपी नेता शिव शंकर प्रसाद गुप्त कहते हैं कि जयंत सिन्हा 2012-13 में दो साल मोदी की टीम के साथ काम कर चुके हैं। इस दौरान जयंत सिन्हा ओमिदियार नेटवर्क में भी काम कर रहे थे। उन्होंने अपने जवाब में कहा है कि 2013 में इस्तीफा दिया।
इसमें मार्क ने लिखा है कि जयंत सिन्हा ओमेदियार नेटवर्क के अधिकारी होते हुए भी बीजेपी से जुड़े थिंक टैंक इंडिया फाउंडेशन में निदेशक हैं। इसी फाउंडेशन के बारे में इन दिनों वायर में ख़बर छपी है। शौर्य डोवल जो राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोवल के बेटे हैं, वो इस फाउंडेशन के सर्वेसर्वा हैं। जयंत सिन्हा ई कामर्स में विदेशी निवेश की छूट की वकालत करते रहते थे जबकि उनकी पार्टी रिटेल सेक्टर में विदेशी निवेश को लेकर ज़ोरदार विरोध करने का नाटक करती थी। जनता इस खेल को कैसे देखे। क्या समझे। बहुत मुश्किल है। एक्सप्रेस की रिपोर्ट को the wire.in और PANDO.COM के साथ पढ़ा जाना चाहिए।

क्या सही में आप इस तरह के खेल को समझने योग्य हैं? मेरा तो दिल बैठ गया है। जब हम वायर की रिपोर्ट पढ़ रहे थे तब हमारे सामने PANDO.COM की तीन साल पुरानी रिपोर्ट नहीं थी। तब हमारे सामने पैराडाइस पेपर्स नहीं थे। क्या हम वाकई जानते हैं कि ये जो नेता दिन रात हमारे सामने दिखते हैं वे किसी कंपनी या नेटवर्क के फ्रंट नहीं हैं? क्या हम जानते हैं कि 2014 की जीत के पीछे लगे इस प्रकार 









Comments