Dera Sacha Sauda Sirsa, Haryana

                   In  # NDTV's prime-time show, Swaraj India Party chief Yogendra Yadav said that this anonymous letter of rape victim Sadhvi was published virtually in Panchkula's local evening daily 'Full Truth'. It is alleged that on the behest of Ram Rahim, after entering the house of Ramchandra Chhatrapati, editor of the 'whole truth' newspaper, they were ransacked with bullets. Based on the same letter, Ram Rahim has been termed as a rapist by the CBI court. After convicting Gurmeet Ram Rahim on behalf of the court, Dainik Jagran has published the same anonymous letter of the Sadhvi, you read, in what words the victim had told the pain -

In service,
Hon'ble Prime Minister, Shri Atal Bihari Vajpayee, Government of India

Subject: Check the rape of hundreds of girls by the Maharaja of Dera.

Sir, I am living in Punjab and now I am serving as a sadhu girl for five years in Dera Sacha Sauda Sirsa, Haryana (Dhan-Dhan Satguru Tera Asara). With me hundreds of girls also serve 18 to 18 hours in the camp. We are being physically exploited here. Together, Yonik exploitation (rape) is being done by Maharaja Gurmeet Singh of Dera. I am a BA near girl. Members of my family are blind devotees of Shri Maharaj, whose inspiration I had made a monk in the camp.

Two years after becoming a saint, one day Maharaj Gurmeet's last disciple, Sadhu Gurujot, told me at 10 o'clock at night that you have called in the cave in the cave. Because I was going there for the first time, I was very happy. Knowing that today God Himself has called me. When I got up in the cave, I saw sitting on the bed of Maharaj. There is a remote in hand, blue film is running on the front TV. The bed has a revolver on the bed side. I was surprised to see all this. I started dizzy The ground below my foot slipped. What is this happening. Would be such a chef? I did not think that in the dream too. Maharaj closed the TV and took me with water and said that I have called you as my special beloved. This was my first day.

While taking me in the arms, Maharaj said that we want you with your heart. You want to love with you, because you asked to devote all the Satguru to the mind and wealth while becoming a monk with us. So now this mind is ours. On opposing me, he said that there is no doubt in it that we are God.

When I asked if it was a work of God then he said, "Lord Krishna was God, he had 360 guides from whom he used to love every day." Even then people consider them as divine, this is not a new thing. If we want, you can cremate your life with this revolver. Your family believes in us like this and is our slave. He can not go outside of us It knows you well. There is a lot going on in our government.

The Chief Minister of Haryana and Punjab, the Union Minister of Punjab touches our stages. Politicians support us, take money and will never go against us. We will get rid of the members of your family's job. All members will die from their servants (good deeds). They will not even leave the evidence. You know very well that even before the goons, we had destroyed the dera manager, Fakir Chand, who does not even know. Nor has any evidence outstanding. With the help of money, we will buy political and police and justice. 1 In this way my mouth is blackened and after 20-30 days in the last three months.

Today I came to know that the girls who lived before me have been blackened with all of them. 35-40 Sage girls in the camp are more than 35-40 years old who have left the age of marriage. Who have compromised the circumstances. Most of these girls are BA, MA, BEd, MPhil passes, but people are living the life of hell because of superstitious people.

We have to wear white clothes, keep sardine on our head, watch the man on the side of a man, stay in the distance of 5-10 feet from the person is ordered by Maharaj but there is goddess in the show, but our condition is like prostitutes.

I once told my family that everything is not right in the camp, so my house started talking in anger and saying that if staying with God is not right then where exactly is it? Bad thoughts came to your mind. Simulate the Satguru and do it. I'm compelled. Here is the order of Satguru. No two girls here can talk to each other. Can not talk to family members by joining the telephone If we call our names of the family, then we do not have to order to speak, according to the order of Maharaj. If a girl talks about this reality of the camp, then the order of Maharaj is to stop her mouth.

In the past, when the daughter of Bathinda, when she disclosed the black act of Maharaj to all the girls, many sadhus girls beat her together. Which is still lying on the bed due to this kill at home. Whose father has cut the name from the volunteers and quietly sat in the house. Those who do not want to tell anything to anyone from fear of slander and chef

A wise girl from Kurukshetra district who has come home has told her to tell the truth to her house. His brother was a big servant, who left the service and broke the relationship with the dera. A girl from Sangrur district who came home and told the neighbors about the dirty activities of the camp,

 #एनडीटीवी के प्राइम टाइम शो में स्वराज इंडिया पार्टी के प्रमुख योगेंद्र यादव ने बताया कि रेप पीड़िता साध्वी की इस गुमनाम चिट्ठी को पंचकूला के स्थानीय सांध्य दैनिक अखबार 'पूरा सच' में अक्षरश: प्रकाशित किया गया था. आरोप है कि इसके बाद राम रहीम के इशारे पर 'पूरा सच' अखबार के संपादक रामचन्द्र छत्रपति के घर में घुसकर उन्हें गोलियों से छलनी कर दिया गया था. उसी चिट्ठी के आधार पर राम रहीम को सीबीआई कोर्ट ने रेपिस्ट करार दिया है. कोर्ट की ओर से गुरमीत राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के बाद साध्वी की उसी गुमनाम चिट्ठी को दैनिक जागरण ने प्रकाशित किया है, आप पढ़िए किन शब्दों में पीड़िता ने बयां किया था दर्द-:

सेवा में, 
माननीय प्रधानमंत्री महोदय जी श्री अटल बिहारी वाजपेयी, भारत सरकार

विषय : डेरे के महाराज द्वारा सैकड़ों लड़कियों से बलात्कार की जांच करें. 

श्रीमान जी, यह है कि मैं पंजाब की रहने वाली हूं और अब पांच साल से डेरा सच्चा सौदा सिरसा, हरियाणा (धन-धन सतगुरु तेरा ही आसरा) में साधु लड़की के रूप में सेवा कर रही हूं. मेरे साथ यहां सैकड़ों लड़कियां भी डेरे में 18-18 घंटे सेवा करती हैं. हमारा यहां शारीरिक शोषण किया जा रहा है. साथ में डेरे के महाराज गुरमीत सिंह द्वारा योनिक शोषण (बलात्कार) किया जा रहा है. मैं बीए पास लड़की हूं. मेरे परिवार के सदस्य महाराज के अंध श्रद्धालु हैं, जिनकी प्रेरणा से मैं डेरे में साधु बनी थी. 

साधु बनने के दो साल बाद एक दिन महाराज गुरमीत की परम शिष्या साधु गुरुजोत ने रात के 10 बजे मुङो बताया कि आपको पिता जी ने गुफा (महाराज के रहने का स्थान) में बुलाया है. मैं क्योंकि पहली बार वहां जा रही थी, मैं बहुत खुश थी. यह जानकर कि आज खुद परमात्मा ने मुङो बुलाया है. गुफा में ऊपर जाकर जब मैंने देखा महाराज बेड पर बैठे हैं. हाथ में रिमोट है, सामने टीवी पर ब्लू फिल्म चल रही है. बेड पर सिरहाने की ओर रिवॉल्वर रखा हुआ है. मैं यह सब देखकर हैरान रह गई. मुझे चक्कर आने लगे. मेरे पांव के नीचे की जमीन खिसक गई. यह क्या हो रहा है. महाराज ऐसे होंगे? ऐसा मैंने सपने में भी नहीं सोचा था. महाराज ने टीवी को बंद किया व मुङो साथ बिठाकर पानी पिलाया और कहा कि मैंने तुम्हें अपनी खास प्यारी समझकर बुलाया है. मेरा यह पहला दिन था. 

महाराज ने मेरे को बांहों में लेते हुए कहा कि हम तुझे दिल से चाहते हैं. तुम्हारे साथ प्यार करना चाहते हैं, क्योंकि तुमने हमारे साथ साधु बनते वक्त तन-मन-धन सब सतगुरु के अर्पण करने को कहा था. तो अब ये तन-मन हमारा है. मेरे विरोध करने पर उन्होंने कहा कि इसमें कोई शक नहीं हम ही खुदा हैं. 

जब मैंने पूछा कि क्या यह खुदा का काम है तो उन्होंने कहा - श्री कृष्ण भगवान थे, उनके यहां 360 गोपियां थीं जिनसे वह हर रोज प्रेम लीला करते थे. फिर भी लोग उन्हें परमात्मा मानते हैं, यह कोई नई बात नहीं है. हम चाहें तो इस रिवॉल्वर से तुम्हारे प्राण पखेरू उड़ाकर दाह संस्कार कर सकते हैं. तुम्हारे घरवाले इस प्रकार से हमारे पर विश्वास करते हैं व हमारे गुलाम हैं. वह हमारे से बाहर जा नहीं सकते. यह तुमको अच्छे से पता है. हमारी सरकार में बहुत चलती है. 

हरियाणा व पंजाब के मुख्यमंत्री, पंजाब के केंद्रीय मंत्री हमारे चरण छूते हैं. राजनीतिज्ञ हमसे समर्थन लेते हैं, पैसा लेते हैं और हमारे खिलाफ कभी नहीं जाएंगे. हम तुम्हारे परिवार के नौकरी लगे सदस्यों को बर्खास्त करवा देंगे. सभी सदस्यों को अपने सेवादारों (गुडों) से मरवा देंगे. सबूत भी नहीं छोड़ेंगे. यह तुम्हें अच्छी तरह पता है कि हमने गुंडों से पहले भी डेरे के प्रबंधक फकीर चंद को खत्म करवा दिया था जिनका अता-पता तक नहीं है. ना ही कोई सबूत बकाया है. जो कि पैसे के बल पर हम राजनीतिक व पुलिस और न्याय को खरीद लेंगे. 1इस तरह मेरे साथ मुंह काला किया और पिछले तीन मास में 20-30 दिन बाद किया जा रहा है. 

आज मुझको पता चला कि मेरे से पहले जो लड़कियां रहती थीं, उन सबके साथ मुंह काला किया गया है. डेरे में मौजूद 35-40 साधु लड़की 35-40 वर्ष की उम्र से अधिक हैं जो शादी की उम्र से निकल चुकी हैं. जिन्होंने परिस्थितियों से समझौता कर लिया है. इनमें ज्यादातर लड़कियां बीए, एमए, बीएड, एमफिल पास हैं, मगर घरवालों के अंधविश्वासी होने के कारण नरक का जीवन जी रही हैं. 

हमें सफेद कपड़े पहनना, सिर पर चुन्नी रखना, किसी आदमी की तरफ आंख न उठाकर देखना, आदमी से 5-10 फुट की दूरी पर रहना महाराज का आदेश है लेकिन दिखाने में देवी हैं मगर हमारी हालत वेश्याओं जैसी है. 

मैंने एक बार अपने परिवारवालों को बताया कि डेरे में सबकुछ ठीक नहीं है तो मेरे घर वाले गुस्से में होते हुए कहने लगे कि अगर भगवान के पास रहते हुए ठीक नहीं है तो ठीक कहां है. तेरे मन में बुरे विचार आने लग गए हैं. सतगुरु का सिमरण किया कर. मैं मजबूर हूं. यहां सतगुरु का आदेश मानना पड़ता है. यहां कोई भी दो लड़कियां आपस में बात नहीं कर सकतीं. घरवालों को टेलिफोन मिलाकर बात नहीं कर सकतीं. घरवालों का हमारे नाम फोन आए तो हमें बात करने का महाराज के आदेशानुसार हुक्म नहीं है. यदि कोई लड़की डेरे की इस सच्चाई के बारे में बात करती है तो महाराज का हुक्म है कि उसका मुंह बंद कर दो. 

पिछले दिनों बठिंडा की लड़की साधु ने जब महाराज की काली करतूतों का सभी लड़कियों के सामने खुलासा किया तो कई साधु लड़कियों ने मिलकर उसे पीटा. जो आज भी घर पर इस मार के कारण बिस्तर पर पड़ी है. जिसका पिता ने सेवादारों से नाम कटवाकर चुपचाप घर बैठा दिया है. जो चाहते हुए भी बदनामी और महाराज के डर से किसी को कुछ नहीं बता रही.

एक कुरुक्षेत्र जिले की एक साधु लड़की जो घर आ गई है, उसने अपने घर वालों को सब कुछ सच बता दिया है. उसका भाई बड़ा सेवादार था, जो कि सेवा छोड़कर डेरे से नाता तोड़ चुका है. संगरूर जिले की एक लड़की जिसने घर आकर पड़ोसियों को डेरे की काली करतूतों के बारे में बताया तो डेरे के सेवादार / गुंडे बंदूकों से लैस लड़की के घर आ गए. घर के अंदर से कुंडी लगाकर जान से मारने की धमकी दी व भविष्य में किसी से कुछ भी नहीं बताने को कहा. 

इसी प्रकार कई लड़कियां जैसे कि जिला मानसा (पंजाब), फिरोजपुर, पटियाला, लुधियाना की हैं. जो घर जाकर भी चुप हैं क्योंकि उन्हें जान का खतरा है. इसी प्रकार जिला सिरसा, हिसार, फतेहबाद, हनुमान गढ़, मेरठ की कई लड़कियां जो कि डेरे की गुंडागर्दी के आगे कुछ नहीं बोल रहीं.

अत: आपसे अनुरोध है कि इन सब लड़कियों के साथ-साथ मुङो भी मेरे परिवार के साथ जान से मार दिया जाएगा अगर मैं इसमें अपना नाम-पता लिखूंगी. क्योंकि मैं चुप नहीं रह सकती और ना ही मरना चाहती हूं. जनता के सामने सच्चाई लाना चाहती हूं. अगर आप प्रेस के माध्यम से किसी भी एजेंसी से जांच करवाएं तो डेरे में मौजूद 40-45 लड़कियां जो कि भय और डर में हैं. पूरा विश्वास दिलाने के बाद सच्चाई बताने को तैयार हैं. हमारा डॉक्टरी मुआयना किया जाए ताकि हमारे अभिभावकों व आपको पता चल जाएगा कि हम कुमारी देवी साधु हैं या नहीं. अगर नहीं तो किसी के द्वारा बर्बाद हुई हैं. ये बता देंगे कि महाराज गुरमीत राम रहीम सिंह जी, संत डेरा सच्चा सौदा के द्वारा तबाह की गई हैं. 

प्रार्थी: एक निर्दोष जलालत का जीवन जीने को मजबूर (डेरा सच्चा सौदा सिरसा).

Comments