Covishield Vs Covaxin Vs Sputnik V Who is Who and Best (Sputnik V) #Covishield, #Covaxin #SputnikV

Covishield Vs Covaxin Vs Sputnik V 

Who is Who and Best 

#Covishield, 

#Covaxin 

#SputnikV 

https://bit.ly/3uGt0Qw


Covishield Vs Covaxin Vs Sputnik V 

Who is Who and Best 

#Covishield, 

#Covaxin 

#SputnikV 

Covishield

Covishield has been co-produced by Oxford University and AstraZeneca and is being produced in India by Pune's Serum Institute of India. It is a one-of-a-kind deal in which half the price per vaccine goes to Oxford. Covishield is one of the most popular vaccines in the world as many countries are using it. Covishield is the most effective and effective against mutant strains (ie mutated viruses). CoveShield is a viral vector type vaccine.

Covishield is created through a single virus made from chinoidal adenovirus (a virus found in the feces of chimpanzee) ChAD0x1.

It is the same virus that causes colds in chimpanzee, but the genetic structure of this virus combines with the virus of COVID, so using the adeno-virus induces the vaccine immunity system to produce antibodies in the body. Coveshield is also approved by WHO. Its effectiveness or effectiveness rate is 70 percent. This vaccine prevents the severe symptoms of corona and the infected person recovers quickly. It also prevents the person from going on ventilator. It is very easy to maintain because it can be carried anywhere from about 2 ° to 8 ° C, so the remaining vaccine vials can be stored in the refrigerator after its use.

Covaxin

Covaxin is co-produced by ICMR and Bharat Biotech. It is built on the oldest inactivated platform, ie the traditional inactivated platform. Inactivated means that the dead virus is injected into the body, which produces antibodies and then the same antibody kills the virus. This vaccine is not able to infect people because making a vaccine is of very fine balance so that the virus is not activated in the body. This infected virus prepares the body's immune system to recognize the real virus and fights it when an infection occurs and tries to eradicate it.

This vaccine threatens the corona virus, not humans.

The effectiveness of covaxine is 78%. A research has also reported that this vaccine can reduce the risk of fatal infection and mortality by 100 percent. Recent research has claimed that covaxin is effective against all variants of the Corona.

Note- Of all these vaccines, only covaxin is the only vaccine that has been created by the oldest method of vaccine use of the Corona virus itself (inactivated virus ie dead-form) and this is one of the major reasons why covaxin is used in the corona 671 makes it effective against variants (according to recent research), no matter how many mutations the corona virus does (ie change the form) covaxin will be effective on all of them.

Sputnik V (Sputnik V)

It has been developed by the Gamalaya Research Institute of Moscow, which will be built by Dr. Reddy's Lab in India. It can also be stored at 2-8 ° C. Sputnik V is also a viral vector vaccine, but the major difference between it and the rest of the vaccine is that the rest of the vaccine is made from one virus, whereas it has two viruses. And both of its doses are different. Sputnik V has been considered the most effective vaccine not only in India but everywhere. India's most effective vaccine on this scale. Sputnik V is 91.6% effective. In such a situation, it can be called the most effective vaccine. It is based on 2 different types of viruses ie Adenovirus-26 (Ad26) and Adenovirus-5 (Ad5) causing colds, colds and other respiratory diseases. It mimics the prickly proteins found in the corona virus (Spike protein - the same protein that helps the body's cells, ie cells, enter), which attack the body first. Immune system is activated as soon as the vaccine reaches the body. And antibodies are produced in the body. These antibodies protect the body from the corona virus.

Now let's talk about Sputnik's single dose vaccine ie Sputnik Light,

Since both doses of the Sputnik vaccine use two different viruses, the Sputnik Lite vaccine is actually the first dose of the Sputnik-V vaccine. Keep in mind that two different vaccines are given in Sputnik-V after a gap of three weeks. Now the manufacturer has claimed that the first dose of Sputnik-V is also effective in protecting against corona infection and it has been launched as Sputnik-Lite with an efficacy of 79.4% which is higher than the two doses of other vaccines. If it is approved in India, then more vaccination can be done in one dose, which can also speed up immunization.

Apart from these three, there are 2 more vaccines in the world which have been given emergency approval but are not currently valid in India, which are of Modarna and Pfizer,

While Modarna has to be stored at -20 °, on the other hand Pfizer's vaccine has to be protected at -70 ° C to -75 ° C. That is why India is lagging behind in approving these vaccines. It is difficult to develop a mechanism in which this temperature is maintained. Apart from this, a technique different from the conventional technique has been used in making this vaccine.

Living or dead virus is injected into the bloodstream of our body through conventional vaccine. It also contains many substances, which are necessary for the production of a resistant process. But Kavid-19's new vaccine uses messenger RNA (mRNA), a type of nucleic acid.

This messenger RNA signals a genetic mechanism, which produces covid antibodies, which destroys virus signals. This means that the virus is not injected directly into the body in this process.

Special Note- Comparative studies are just for your information because only three vaccines approved in India (Covishield, Covaxin and Sputnik) prevent Covid from getting serious and going on ventilator and get the vaccine immediately, because these three The vaccine avoids the risk of getting serious disease and protects you.

कोविशील्ड (Covishield)

कोविशील्ड को ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी और एस्ट्राजेनेका ने मिलकर तैयार किया है और इसके उत्पादन के लिए भारत में इसे पुणे की सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया बना रही है।ये एक तरह का सौदा है जिसमें प्रति वैक्सीन की आधी कीमत ऑक्सफ़ोर्ड के पास जाती है। कोविशील्ड दुनिया की सबसे लोकप्रिय वैक्सीन में से है क्योंकि कई देश इसका इस्तेमाल कर रहे हैं।कोविशील्ड म्यूटेंट स्ट्रेन्स (अर्थात रूप बदले हुए वायरस) के खिलाफ सबसे असरदार और प्रभावी है। कोवीशील्ड एक वायरल वेक्टर टाइप की वैक्सीन है।

कोविशील्ड को सिंगल वायरस के जरिए बनाया गया है जो कि चिम्पैंजी में पाए जाने वाले एडेनोवायरस (चिंपैंजी के मल में पाया जाने वाला वायरस) ChAD0x1 से बनी है।

ये वही वायरस है जो चिंपैंजी में होने वाले जुकाम का कारण बनता है लेकिन इस वायरस की जेनेटिक सरंचना COVID के वायरस से मिलती है इसलिए एडेनो-वायरस का उपयोग कर के शरीर मे एंटीबॉडी बनाने को वैक्सीन इम्युनिटी सिस्टम को प्रेरित करती है। कोवीशील्ड को भी WHO ने मंजूरी दी है।  इसकी प्रभाविकता या इफेक्टिवनेस रेट 70 फीसदी है। यह वैक्सीन कोरोना के गंभीर लक्षणों से बचाती है और संक्रमित व्यक्ति जल्दी ठीक होता है।ये व्यक्ति को वेन्टिलर पर जाने से भी बचाती है। इसका रख-रखाव रखना बेहद आसान है क्योंकि यह लगभग 2° से 8°C पर कहीं भी ले जाई जा सकती है इसलिए इसकी उपयोग में लाने के बाद बची हुई वैक्सीन की वायल को फ्रिज में स्टोर किया जा सकता है।

कोवैक्सिन (Covaxin)

कोवैक्सिन को ICMR और भारत बायोटेक ने मिलकर तैयार किया है। इसे वैक्सीन बनाने के सबसे पुराने अर्थात पारंपरिक इनएक्टिवेटेड प्लेटफॉर्म  पर बनाया गया है। इनएक्टिवेटेड का मतलब है कि इसमें डेड वायरस को शरीर में डाला जाता है, जिससे एंटीबॉडी पैदा होती है और फिर यही एंटीबॉडी वायरस को मारती है। यह वैक्सीन लोगों को संक्रमित करने में सक्षम नहीं है क्योंकि वैक्सीन बनाना बेहद फाइन बैलेंस का काम होता है ताकि वायरस शरीर मे एक्टिवेट न हो सके। ये इनक्टिवेटेड वायरस शरीर के प्रतिरक्षा तंत्र को असली वायरस को पहचानने के लिए तैयार करता है और संक्रमण होने पर उससे लड़ता है और उसे खत्म करने की कोशिश करता है।

इस वैक्सीन से कोरोना वायरस को खतरा है, इंसानों को नहीं।

कोवैक्सीन की प्रभाविकता 78 फीसदी है। एक शोध में ये भी बताया गया है कि यह वैक्सीन घातक संक्रमण और मृत्यु दर के जोखिम को 100 फीसदी तक कम कर सकती है। हाल ही में हुए शोध में यह दावा किया गया है कि कोवैक्सिन कोरोना के सभी वेरिएंट्स के खिलाफ कारगर है।

Note- इन सभी वैक्सीन में सिर्फ covaxin अकेली वैक्सीन है जिसे वैक्सीन बनाने के सबसे पुराने तरीके से बनाया गया है इसमें कोरोना वायरस के ही (इनक्टिवेटेड वायरस अर्थात मृत-स्वरूप को उपयोग में लाया है और यही एक बड़ा कारण है जोकि covaxin को कोरोना के 671 वैरिएंट (हाल ही में हुए शोध अनुसार) के खिलाफ प्रभावी बनाता है मतलब ये कि चाहे कोरोना वायरस कितना भी म्यूटेशन कर ले (अर्थात रूप बदल लें) covaxin उन सभी पर प्रभावी रहेगी।

स्पुतनिक- V (Sputnik V)

इसे मॉस्को के गमलेया रिसर्च इंस्टीट्यूट ने तैयार किया  है,जिसे भारत में डॉ० रेड्डी लैब द्वारा बनाया जाएगा। इसे भी 2-8°C पर स्टोर किया जा सकता है।स्पुतनिक V भी एक वायरल वेक्टर वैक्सीन है, लेकिन इसमें और बाकी वैक्सीन में एक बड़ा फर्क यही है कि बाकी वैक्सीन को एक वायरस से बनाया गया है, जबकि इसमें दो वायरस हैं और इसके दोनों डोज अलग-अलग होते हैं। स्पुतनिक V को भारत ही नहीं बल्कि हर जगह अब तक की सबसे प्रभावी वैक्सीन माना गया है। इस पैमाने पर भारत की सबसे इफेक्टिव वैक्सीन है। स्पुतनिक V 91.6 % प्रभावी है। ऐसे में इसे सबसे अधिक प्रभावी वैक्सीन कहा जा सकता है। यह सर्दी, जुकाम और अन्य श्वसन रोग पैदा करने वाले एडेनोवायरस-26 (Ad26) और एडेनोवायरस-5 ( Ad5) अर्थात 2 अलग अलग प्रकार के वायरस पर आधारित है। यह कोरोना वायरस में पाए जाने वाले कांटेदार प्रोटीन  (Spike प्रोटीन- यही वो प्रोटीन है जो शरीर की कोशिकाओं अर्थात सेल्स में एंट्री लेने में मदद करता है) की नकल करती है, जो शरीर पर सबसे पहले हमला करता है। वैक्सीन शरीर में पहुंचते ही इम्यून सिस्टम सक्रिय हो जाता है। और शरीर में एंटीबॉडी पैदा हो जाती है। यही एंटीबॉडी शरीर को कोरोना वायरस से बचाती हैं।

अब बात करते हैं स्पुतनिक की ही सिंगल डोज वाली वैक्सीन अर्थात Sputnik Light की,

चूंकि स्पुतनिक वैक्सीन की दोनों डोज में दो अलग अलग वायरस उपयोग होते है तो स्पुतनिक लाइट वैक्सीन असल में स्पुतनिक-V वैक्सीन का पहला डोज ही है। ध्यान रहे कि स्पुतनिक-V में दो अलग-अलग वैक्सीन तीन हफ्ते के अंतराल के बाद दिए जाते हैं। अब इसे बनाने वाली कंपनी ने दावा किया है कि स्पुतनिक-V का पहला डोज भी कोरोना संक्रमण से बचाने में कारगर है और इसे ही स्पुतनिक-लाइट के रूप में लांच किया गया है।जिसका इफेक्टिवनेस 79.4% है जोकि अन्य वैक्सीन के दो डोज से भी अधिक है यदि इसकी मंजूरी भारत में मिलती है तो एक डोज में ही अधिक टीकाकरण किया जा सकेगा।जिससे टीकाकरण में तेजी भी लाई जा सकेगी।

◆ इन तीनों के अलावा 2 वैक्सीन और भी हैं विश्व में जिनको आपातकालीन मंजूरी दी गयी है लेकिन फिलहाल भारत मे मान्य नहीं है जोकि मोडर्ना और फाइजर की हैं,

मोडर्ना को जहाँ -20° पर स्टोर करना होता है वहीं दूसरी ओर फाइजर की वैक्सीन को -70°C से -75°C पर सुरक्षित रखना पड़ता है यही कारण है भारत इन वैक्सीन को मंजूरी देने में कदम पीछे खींच रहा है क्योंकि भारत मे ऐसे तंत्र को विकसित करना मुश्किल है जिसमें इस तापमान को मेंटेन रखा जाए।इससे भी अलग एक बात ये है कि इस वैक्सीन को बनाने में परम्परागत तकनीक से अलग तकनीक उपयोग में लाई गई है।

परंपरागत वैक्सीन के जरिए हमारे शरीर के रक्तप्रवाह में जीवित या मृत वायरस डाला जाता है। साथ ही इसमें कई पदार्थ होते हैं, जो प्रतिरोधी प्रक्रिया के उत्पादन के लिए जरूरी होते हैं। लेकिन कोविड-19 की नई वैक्सीन में मैसेंजर आरएनए (MRNA) का इस्तेमाल किया गया है, जो एक प्रकार का न्यूक्लिक अम्ल है।

यह मैसेंजर आरएनए एक आनुवंशिक तंत्र (genetic mechanism) का संकेत देता है, जिससे कोविड एंटीबॉडी उत्पन्न होती है, जो वायरस के निशानों को नष्ट कर देती है। यानी इस प्रक्रिया में वायरस को शरीर में सीधे इंजेक्ट नहीं किया जाता है।

Special Note- 

तुलनात्मक अध्ययन सिर्फ आपकी जानकारी के लिए हैं क्योंकि अभी तक भारत में स्वीकृत तीनों ही वैक्सीन (कोविशील्ड,कोवाक्सिन और स्पुतनिक) कोविड को गम्भीर होने और वेंटिलेटर पर जाने से बचाती हैं और जो भी वैक्सीन मिल जाये, तुरन्त लगवाएं क्योंकि ये तीनों की वैक्सीन रोग के गम्भीर होने के खतरे को टाल देती है और आपकी रक्षा करती हैं।












Comments