Completely False message about Delhi Elections 2020

झूठ ! झूठ ! झूठ ! हमेशा की तरह झूठ!!!

झूठ फैलाने से पहले बजरंगबली से तो डरो कायरों !!

दिल्ली चुनाव के बारे में यह पूरा झूठा मैसेज है 

👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻👇🏻

https://bit.ly/31KvMXm

lie ! lie ! lie ! Lie as usual !!!

This is a Completely False message about Delhi Elections 2020 

Delhi Election ..

BJP lost by just a few votes:

100 votes: 8 seats
1,000 votes: 19 seats
2,000 votes: 9 seats

These seats add up to 8 seats won
This figure comes at 44 seats

Think what you get when people do not vote or when the voting percentage is low ..

3% more turnout could have changed the entire game
4
4


Actually no seat was won by a margin of just 100 votes !!

Before spreading lies, be afraid of Bajrangbali !!

You can see the difference of each seat on the link

https://www.deccanherald.com/news/elections-2020/delhi-election-result-live-delhi-election-constituency-wise-result-live-delhi-result-live-aap-bjp-congress

▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬

दिल्ली चुनाव..

बीजेपी सिर्फ कुछ वोटों से हार गई:

100 वोट: 8 सीट
1,000 वोट: 19 सीटें
2,000 वोट: 9 सीटें

इन सीटों को जीती हुए 8 सीटों से जोड़ों
यह आंकड़ा 44 सीट पर आता है

सोचो कि जब लोग वोट नहीं करते या मतदान प्रतिशत कम होने पर आपको क्या मिलता है..

3% अधिक मतदान पूरे खेल को बदल सकता था
▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬▬
👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻


असल में कोई भी सीट सिर्फ 100 मतों के अंतर से नहीं जीती गई !!

झूठ फैलाने से पहले बजरंगबली से तो डरो कायरों !!

लिंक पर आप हर सीट का डिफरेंस देख सकते हैं

https://www.deccanherald.com/news/elections-2020/delhi-election-result-live-delhi-election-constituency-wise-result-live-delhi-result-live-aap-bjp-congress


♾♾♾♾♾♾♾♾♾

👇 नरेंद्र मोदी को समर्पित  ...😡

तेरी कामयाबी पर हमें  ताज्जुब नहीं ऐ दोस्त

 तू मसीहा 🐍

       वतन के गद्दारों का है...!!

♾♾♾♾♾♾♾♾♾
https://bit.ly/31KvMXm


नरेंद्र मोदी को समर्पित



हमें आपकी सफलता पर आश्चर्य नहीं है,

मेरे दोस्त

   आप मसीहा हैं

         देश के गद्दार हैं ... !!

       वतन के गद्दारों का है...!!












One More Fake Story By BJP IT Cell 
[Kindly Google to know the Fact ] 

https://bit.ly/31KvMXm

भाजपा आईटी सेल द्वारा एक और नकली कहानी
[तथ्य जानने के लिए कृपया Google करें]

लेटिन अमेरिकी देश
वेनेजुएला में भी एक   "केजरीवाल"  था। ..  "प्रेज़िडेंट ह्यूगो शावेज़"
जिसने वेनेजुएला की जनता को मुफ्तखोर बनाकर
वेनेजुएला को बर्बाद और दिवालिया कर दिया
अभी 5-6 वर्ष पहले तक
दुनिया में सबसे सस्ता पैट्रोल वेनेज़ुएला में मिलता था। 64 पैसे प्रति लीटर (2014)
वेनेज़ुएला में 5-6 वर्ष पहले तक किसी तरह का कोई टैक्स नहीं था।
वहां शुरु से अन्त तक पूरी पढ़ाई मुफ्त,
हर तरह की मैडिकल मदद पूरी तरह से मुफ्त,
बिजली मुफ्त, पानी मुफ्त,
लोकल ट्रांसपोर्ट मुफ्त थी।
वहां हर व्यक्ति को नौकरी,
और नौकरी न होने की स्थिति में पर्याप्त बेरोजगारी भत्ता
और प्रत्येक नागरिक को एक निर्धारित मासिक भत्ते का सरकारी  "लालीपॉप" थमा दिया।
जनता इस लालीपॉप को चूसती रही
और उसका योगदान देश की अर्थव्यवस्था में न के बराबर रहा।
सरकार केवल तेल बेचकर इन सब खर्चों की पूर्ति करती रही।
सिर्फ 5-6 वर्ष पहले तक
वेनेज़ुएला में जीवन गुज़ारना वहां के नागरिकों के लिए एक जीवन भर की मौज मस्ती थी।
और आज, वर्तमान समय के हालात इतने बुरे हैं कि दुनिया को सबसे अधिक विश्व सुन्दरी देने वाले देश की बेटियां जो कल तक अपने देश में पुलिस ऑफिसर, प्रोफेसर, अध्यापिका, नर्स, अखबार की रिपोर्टर आदि बतौर सम्मानजनक नौकरियां कर रही थीं,
आज पड़ोसी देश कोलम्बिया जाकर 10-10 अमेरिकन डॉलर के लिए अपना शरीर बेचने को मजबूर हो गयी है,
ताकि अपने देश में छूट गये मां बाप, या भाई बहन, या पति व बच्चों के लिये महीने में 500-600 अमेरिकन डॉलर भेज सकें।
आखिर ऐसा क्या हुआ
कि 5-6 वर्ष पहले का स्वर्ग इतनी जल्दी वहां के लोगों के लिए नरक बन गया?
जवाब बहुत साफ है।
वेनेज़ुएला में पिछले लम्बे समय से वामपंथी सरकारों का ज़ोर चल रहा था, भ्रष्टाचार चरम पर था,
खर्चे व सब्सिडी भयंकर थीं
तेल उत्पादन के अलावा किसी भी दूसरे उत्पादन पर किसी तरह की कोशिश की ही नहीं जा रही थी,
भ्रष्टाचार और सब्सिडी की वजह से वेनेजुएला का खज़ाना लगभग खाली था।
और इसीलिए 2014 में  अचानक ही
वेनेज़ुएला में हर चीज दिन दुगनी, रात चौगुनी मंहगी होती गई।
आज इतनी मंहगाई है
कि एक महीने की सैलरी से सिर्फ एक पैकेट पास्ता खरीदने के अलावा कुछ नहीं कर सकते,
UN के अनुसार
2019 में मंहगाई 1 लाख प्रतिशत तक बढ़ गई।
1 लाख प्रतिशत, मतलब
जो चीज आज 1 रुपये की है वही साल भर बाद 1 लाख रुपये की।
वेनेजुएला की मुद्रा बोलिवर है और
इसका सबसे बड़ा नोट एक लाख बोलिवर का है।
मगर बाजार में इसकी कीमत कुछ भी नहीं।
वेनेजुएला में अब एक लाख बोलिवर में कुछ नहीं खरीदा जा सकता।
वित्तीय संकट की वजह से सरकार लगातार नोट छाप रही है जिससे यहां की मुद्रा बोलीवर की कीमत लगातार घट रही है।
हालत यह है कि एक डॉलर  35 लाख बोलिवर के बराबर हो गया है।
जब तक वेनेजुएला में तेल बेच-बेचकर पैसा आ रहा था और शावेज (वेनेजुएला का केजरीवाल)
जनता पर पैसा बरसा रहे थे,
तब तक सब ठीक था।
हालांकि, अर्थशास्त्री तब भी' शावेज की सोशलिस्ट (मुफ्तखोरी) पॉलिसी
को खतरा बता रहे थे,
लेकिन तब
सबके कानों में मुफ्तखोरी का तेल पड़ा हुआ था।
आज वेनेजुएला की करंसी बोलिवर का आलम यह है कि
लोग एक किलो मीट के लिए 1.5 करोड़ बोलिवर तक दे रहे हैं।
एक कप कॉफी के लिए 25 लाख बोलिवर तक दे रहे हैं।
औरतें अपने बाल बेचकर पैसे इकट्ठा कर रही हैं।
हर 35 दिनों में चीज़ों के दाम दोगुने हो रहे हैं।
आज यहां 5 में से 4 लोग गरीब हैं
होटल-रेस्ट्रॉन्ट में लोग अपना बैंक बैलेंस दिखा रहे है कि उनके पास पेमेंट करने के लिए पैसे हैं।










Comments