After reading two such true stories, you may want to change the way you live your life

दो ऐसी सत्य कथाऐं जिनको पढ़ने के बाद शायद आप भी अपनी  ज़िंदगी जीने का अंदाज़ बदलना चाहें:-

After reading two such true stories, you may want to change the way you live your life: -

First*
After becoming President of South Africa, Nelson Mandela once went to dine in a restaurant with his security personnel. Everyone ordered the food of their choice and started waiting for the food to arrive.
At the same time, a person was waiting for his dinner on the seat opposite Mandela's seat. Mandela asked his security personnel to call him to his table too. So did happen. After eating, everyone started eating, the man also started eating his food, but his hands were trembling while eating.
Finishing the meal, the man bowed his head and walked out of the restaurant. After the man left, Mandela's security officer told Mandela that the person was probably very ill, his hands were trembling and he himself was trembling.
Mandela said no, it is not so. He was the jailer of the prison in which I was kept imprisoned. Whenever I was tortured and I used to ask for water while moaning, it used to piss on me.

Mandela said that I have become the President now, he understood that I will also treat him like that. But my character is not like that. I feel that working in revenge leads to destruction. At the same time, the mindset of patience and tolerance leads us to development.

The second

TC told a thirteen / fourteen year old girl hiding under the seat while traveling from Mumbai to Bangalore

TC "Where's the ticket?"
The girl trembled "No sir."
T C "So get off the car."

I am giving the ticket for this. ……… From behind came the voice of a fellow traveler Usha Bhattacharya who was a professor by profession.

Usha ji - "Where do you want to go?"
Girl - "Don't know ma'am!"
Usha ji - "Then come with me to Bangalore!"
Usha ji - "What's your name?"
Girl - "Figure"

On reaching Bangalore, Ushaji handed over Chitra her life to a voluntary organization and got her admission in a good school. Soon Usha ji was transferred to Delhi due to which Chitra lost contact, sometimes only talking on the phone.

Nearly twenty years later Ushaji was called to San Francisco (USA) for a lecture. After the lecture, when she went to the reception to pay the hotel bill, it was discovered that a beautiful couple standing behind had paid the bill.

Ushaji "Why did you pay my bill?"
Ma'am, it is nothing in front of the train ticket from Mumbai to Bangalore.
Ushaji "Hey Chitra!" ...

Chitra was none other than Infosys Foundation Chairman Sudha Murti who is the wife of Infosys founder Mr. Narayana Murthy.
This short story is taken from his book "The Day I Stopped Drinking Milk".

Sometimes the help you provide can change someone's life.

If you want to earn something in life, then earn virtue, because this is the path that leads to heaven….


पहली*
दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति बनने के बाद ऐक बार नेल्सन मांडेला अपने सुरक्षा कर्मियों के साथ एक रेस्तरां में खाना खाने गए। सबने अपनी अपनी पसंद का खाना  आर्डर किया और खाना आने का इंतजार करने लगे। 
उसी समय मांडेला की सीट के सामने वाली सीट पर एक व्यक्ति अपने खाने का इंतजार कर रहा था। मांडेला ने अपने सुरक्षा कर्मी से कहा कि उसे भी अपनी टेबल पर बुला लो। ऐसा ही हुआ। खाना आने के बाद सभी खाने लगे, वो आदमी भी अपना खाना खाने लगा, पर उसके हाथ खाते हुए कांप रहे थे।
खाना खत्म कर वो आदमी सिर झुका कर रेस्तरां से बाहर निकल गया। उस आदमी के जाने के बाद मंडेला के सुरक्षा अधिकारी ने मंडेला से कहा कि वो व्यक्ति शायद बहुत बीमार था, खाते वख़्त उसके हाथ लगातार कांप रहे थे और वह ख़ुद भी कांप रहा था। 
मांडेला ने कहा नहीं ऐसा नहीं है। वह उस जेल का जेलर था, जिसमें मुझे कैद रखा गया था। जब कभी मुझे यातनाएं दी जाती थीं  और मै कराहते हुए पानी मांगता था तो ये मेरे ऊपर पेशाब करता था।

मांडेला ने कहा मै अब राष्ट्रपति बन गया हूं, उसने समझा कि मै भी उसके साथ शायद वैसा ही व्यवहार करूंगा। पर मेरा चरित्र ऐसा नहीं है। मुझे लगता है बदले की भावना से काम करना विनाश की ओर ले जाता है। वहीं धैर्य और सहिष्णुता की मानसिकता हमें विकास की ओर ले जाती है।

दूसरी

मुंबई से बैंगलुरू जा रही ट्रेन में सफ़र के दौरान टीसी ने सीट के नीचे छिपी लगभग तेरह/चौदह साल की ऐक लड़की से कहा 

टीसी "टिकट कहाँ है?"
काँपती हुई लडकी "नहीं है साहब।"
टी सी "तो गाड़ी से उतरो।" 

इसका टिकट मैं दे रही हूँ।............पीछे से ऐक सह यात्री ऊषा भट्टाचार्य की आवाज आई जो पेशे से प्रोफेसर थी ।

ऊषा जी - "तुम्हें कहाँ जाना है ?" 
लड़की - "पता नहीं मैम!" 
ऊषा जी - "तब मेरे साथ चलो, बैंगलोर तक!"
ऊषा जी - "तुम्हारा नाम क्या है?"
लड़की - "चित्रा"

बैंगलुरू पहुँच कर ऊषाजी ने चित्रा को अपनी जान पहचान की ऐक स्वंयसेवी संस्था को सौंप दिया और ऐक अच्छे स्कूल में भी एडमीशन करवा दिया। जल्द ही ऊषा जी का ट्रांसफर दिल्ली हो गया जिसके कारण चित्रा से संपर्क टूट गया, कभी-कभार केवल फोन पर बात हो जाया करती थी। 

करीब बीस साल बाद ऊषाजी को एक लेक्चर के लिए सेन फ्रांसिस्को (अमरीका) बुलाया गया । लेक्चर के बाद जब वह होटल का बिल देने रिसेप्सन पर गईं तो पता चला पीछे खड़े एक खूबसूरत दंपत्ति ने बिल चुका  दिया था।

ऊषाजी "तुमने मेरा बिल क्यों भरा?"
मैम, यह मुम्बई से बैंगलुरू तक के रेल टिकट के सामने कुछ भी नहीं है ।
ऊषाजी "अरे चित्रा!" ...

चित्रा और कोई नहीं बल्कि  इंफोसिस फाउंडेशन की चेयरमैन सुधा मुर्ति थीं जो  इंफोसिस के संस्थापक श्री नारायण मूर्ति की पत्नी हैं।
यह लघु कथा उन्ही की लिखी पुस्तक "द डे आई स्टाॅप्ड ड्रिंकिंग मिल्क" से ली गई है। 

कभी कभी आपके द्वारा  की गई किसी की सहायता, किसी का जीवन बदल सकती है।

यदि जीवन में कुछ कमाना है तो पुण्य अर्जित कीजिये, क्योंकि यही वो मार्ग है जो स्वर्ग तक जाता है.... 🌹🌹


Comments