A Story

एक कहानी 👏🏻👏🏻

एक बार एक व्यक्ति रेगिस्तान में कहीं भटक गया ।

A Story

Once a person wandered somewhere in the desert.

The little things that he had for eating and drinking were soon over.

For the last two days, he was craving for every drop of water.

He knew in his mind that his death is certain if he does not get water from anywhere in the next few hours.

But somewhere he believed in God that some miracle would happen and he would get water.

Then he saw a hut. He could not believe his eyes.

Even before, he was deceived due to mirage and confusion. But the poor man had no choice but to believe it, which was his last hope.

He started walking towards the hut with his remaining strength. As he got closer, his hopes increased and this time luck was also with him.

There was indeed a hut there.
But what is this?
The hut was deserted.
As if no one has wandered there for years. Still, in the hope of water, that person entered the hut.

He could not believe his eyes seeing the view inside. A hand pump was installed there. That person was filled with new energy.

He craved for every drop of water, he started running the hand pump fast.
But the hand pump had dried up since then.

The person got frustrated, he felt that no one could save him from dying now.
He fell down and fell there.

Then he saw a bottle full of water tied to the roof of the hut. He somehow grabbed her and was about to open it and drink ...

Then she was shown a paper affixed to the bottle and wrote on it -
"Use this water to run a hand pump and don't forget to keep the bottle full?"

It was a strange situation.
That person could not understand that he should drink water or put it in a hand pump and start it.

Many questions began to arise in his mind, if the pump did not run even after pouring water. If the thing written here is false. And do you know if the water under the ground has also dried up?

But what do you know about the pump,
Do you know what is written here is true,
He could not understand what to do?

Then after thinking something, he opened the bottle and with trembling hands started pouring water into the pump. He prayed to God by pouring water and started running the pump.

Coldwater started coming out of one, two, three more hand pumps. That water was not less than any nectar.

The person drank water with gusto, he died in his life. The brain started working. He filled the bottle again with water and tied it to the ceiling.

While he was doing this, he saw another glass bottle in front of him. Khola then had a pencil and a map in it, which had a way out of the desert.

The man remembered the way and put the map bottle back there.

After this he filled water in his bottles (which were already with him) and started leaving.
He stepped back and looked once.

After thinking about it, he went back to the hut, and after removing the paper stuck on a bottle filled with water, he started writing something on it.

He wrote - "Believe me this hand pump works"

This story is about the whole life. It teaches us that one should not give up hope even in the worst of situations. And this story also teaches that before we get something very big, we have to give something on our behalf as well.

Like that person put all the water available to run the tap. If seen, the water in this story represents the important things present in life.

There are some things that have special value in our eyes. This message can be knowledge for someone, love for someone, money for someone else.

To get what it is, first we have to put it in the Karma Rupees Hand Pump on our behalf and then in return, you get it back in much more than your contribution.

Keep smiling forever

What is available is enough













उसके पास खाने-पीने की जो थोड़ी बहुत चीजें थीं, वो जल्द ही ख़त्म हो गयीं थीं।

पिछले दो दिनों से वह पानी की एक-एक बूंद के लिए तरस रहा था।

वह मन ही मन जान चुका था कि अगले कुछ घण्टों में अगर उसे कहीं से पानी नहीं मिला तो उसकी मौत निश्चित है ।

पर कहीं न कहीं उसे ईश्वर पर यकीन था कि कुछ चमत्कार होगा और उसे पानी मिल जाएगा।

तभी उसे एक झोँपड़ी दिखाई दी। उसे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हुआ।

पहले भी वह मृगतृष्णा और भ्रम के कारण धोखा खा चुका था। पर बेचारे के पास यकीन करने के अलावा कोई चारा भी तो न था।आखिर यह उसकी आखिरी उम्मीद जो थी।

वह अपनी बची खुची ताकत से झोँपडी की तरफ चलने लगा। जैसे-जैसे वह करीब पहुँचता, उसकी उम्मीद बढती जाती और इस बार भाग्य भी उसके साथ था।

सचमुच वहाँ एक झोँपड़ी थी।
पर यह क्या ?
झोँपडी तो वीरान पड़ी थी।
मानो सालों से कोई वहाँ भटका न हो। फिर भी पानी की उम्मीद में वह व्यक्ति झोँपड़ी के अन्दर घुसा।

अन्दर का नजारा देख उसे अपनी आँखों पर यकीन नहीं हुआ। वहाँ एक हैण्ड पम्प लगा था। वह व्यक्ति एक नयी उर्जा से भर गया।

पानी की एक-एक बूंद के लिए तरसता वह तेजी से हैण्ड पम्प को चलाने लगा।
लेकिन हैण्ड पम्प तो कब का सूख चुका था। 

वह व्यक्ति निराश हो गया, उसे लगा कि अब उसे मरने से कोई नहीं बचा सकता।
वह निढाल होकर वहीं गिर पड़ा।

तभी उसे झोँपड़ी की छत से बंधी पानी से भरी एक बोतल दिखाई दी। वह किसी तरह उसकी तरफ लपका और उसे खोलकर पीने ही वाला था कि...

तभी उसे बोतल से चिपका एक कागज़ दिखा उस पर लिखा था -
"इस पानी का प्रयोग हैण्ड पम्प चलाने के लिए करो और वापिस बोतल भरकर रखना ना भूलना ?"

यह एक अजीब सी स्थिति थी।
उस व्यक्ति को समझ नहीं आ रहा था कि वह पानी पीये या उसे हैण्ड पम्प में डालकर चालू करे।

उसके मन में तमाम सवाल उठने लगे, अगर पानी डालने पर भी पम्प नहीं चला तो। अगर यहाँ लिखी बात झूठी हुई। और क्या पता जमीन के नीचे का पानी भी सूख चुका हो तो।

लेकिन क्या पता पम्प चल ही पड़े,
क्या पता यहाँ लिखी बात सच हो,
वह समझ नहीं पा रहा था कि क्या करे?

फिर कुछ सोचने के बाद उसने बोतल खोली और कांपते हाथों से पानी पम्प में डालने लगा। पानी डालकर उसने भगवान से प्रार्थना की और पम्प चलाने लगा।

एक, दो, तीन और हैण्ड पम्प से ठण्डा-ठण्डा पानी निकलने लगा। वह पानी किसी अमृत से कम नहीं था।

उस व्यक्ति ने जी भरकर पानी पिया, उसकी जान में जान आ गयी। दिमाग काम करने लगा। उसने बोतल में फिर से पानी भर दिया और उसे छत से बांध दिया।

जब वो ऐसा कर रहा था, तभी उसे अपने सामने एक और शीशे की बोतल दिखी।खोला तो उसमें एक पेंसिल और एक नक्शा पड़ा हुआ था, जिसमें रेगिस्तान से निकलने का रास्ता था।

उस व्यक्ति ने रास्ता याद कर लिया और नक़्शे वाली बोतल को वापस वहीँ रख दिया।

इसके बाद उसने अपनी बोतलों में (जो पहले से ही उसके पास थीं) पानी भरकर वहाँ से जाने लगा।
कुछ आगे बढ़कर उसने एक बार पीछे मुड़कर देखा।

फिर कुछ सोचकर वापिस उस झोँपडी में गया, और पानी से भरी बोतल पर चिपके कागज़ को उतारकर उस पर कुछ लिखने लगा।

उसने लिखा - "मेरा यकीन करिए यह हैण्ड पम्प काम करता है"

यह कहानी सम्पूर्ण जीवन के बारे में है। यह हमें सिखाती है कि बुरी से बुरी स्थिति में भी अपनी उम्मीद नहीं छोडनी चाहिए। और इस कहानी से यह भी शिक्षा मिलती है कि कुछ बहुत बड़ा पाने से पहले हमें अपनी ओर से भी कुछ देना होता है।

जैसे उस व्यक्ति ने नल चलाने के लिए मौजूद पूरा पानी उसमें डाल दिया। देखा जाए तो इस कहानी में पानी जीवन में मौजूद महत्वपूर्ण चीजों को दर्शाता है।

कुछ ऐसी चीजें हैं जिनकी हमारी नजरों में विशेष कीमत है। किसी के लिए मेरा यह सन्देश ज्ञान हो सकता है, तो किसी के लिए प्रेम, तो किसी और के लिए पैसा।

यह जो कुछ भी है, उसे पाने के लिए पहले हमें अपनी तरफ से उसे कर्म रुपी हैण्ड पम्प में डालना होता है और फिर बदले में आप अपने योगदान से कहीं अधिक मात्रा में उसे वापिस पाते हैं।

सदा मुस्कुराते रहिए 
जो प्राप्त है-वो पर्याप्त है


दिल्ली का Exit Poll, शानदार जीत की और आम आदमी पार्टी
Aaj Tak
AAP = 59 - 68
BJP = 02 -11
Cong = 00 - 02
ABP News
AAP = 49 -63
BJP = 5 -19
Cong = 0 - 4
Times now
AAP = 47
BJP = 23
Congress = 0
Republic TV
AAP = 48 - 61
BJP = 9 - 21
Congress = 0
India News
AAP = 53 - 57
BJP = 11- 17
Cong = 02
Tv 9
AAP = 54
BJP = 15
Congress = 01
News X
AAP = 55
BJP = 14
Cong = 01


India’s Trending Digital Marketing Course.
Digital Marketing has become the most demanded skill in the Marketing Industry.
Learn it and start applying it before you realize it has been too late.
This course consists of:

🔥 18 Modules
🔥 43 Practical Videos
🔥 Weekly Live Session with Mr.Hrishikesh Roy
🔥 Email Support
🔥 Whatsapp Chat Support
and much more...

Course Fees Rs.7999/-

After current discount (96%): Rs.299 Only

Hurry Up... The offer is ending soon.

Comments