Eats Millet Bread

* Eat the seeds, there will not be Diseases of Bones.

 🌾Bajare's bread tastes as good as it has more qualities.

Answer: A person who eats millet bread does not have osteoporosis and anemia, which is a disease caused by lack of calcium in bones.

बाजरा-millet also reduces liver related diseases.
Answer: Energy is several times more in millet than wheat and rice.

 6-Bajra contains rich calcium which is a panacea for bones. On the other hand, iron is also so high in Bajra that diseases due to anemia cannot be caused.

7 - Especially pregnant women should eat two tablets of millet every day instead of eating calcium tablets.

Answer: Senior Medical Officer Major Dr. B.P. During Singh's deployment to Sikkim, pregnant women were given millet bread and khichdi instead of calcium and iron. This led to their children not having calcium and iron deficiency diseases from birth to the age of five.

Not only this, cases of abnormal pain in childbirth were also found in women who consume millet.

 4- The doctor is so impressed with the qualities of millet that he has started giving it the title of Vajra among grains.

7 - Consumption of millet in any form is beneficial.

Eating millet is also beneficial for the protection of a lever.

Answer: - It works as a tonic for high blood pressure, heart weakness, lack of milk in people with asthma and lactating mothers.

Answer: - If millet is consumed regularly, it will remove malnutrition, corrosion-related diseases and premature aging processes.

6 - Consumption of ragi makes the body naturally peaceful. It is beneficial in anxiety, depression and sleepiness. It is also beneficial for migraine.

It contains amino acids called lecithin and methionine which reduce the amount of cholesterol by removing excess fat.

Answer: The chemicals present in Bajra slow down the digestion process.

In diabetes, it is helpful in controlling the amount of sugar in the blood.

If you like this message or understand that it will work like someone's panacea, then you are requested to send this message to your acquaintance / friend / or your Whats app group friends. As a contribution, there is great strength in blessing.

Stay Healthy stay busy Stay  Happy always


*🌾बाजरा खाइए, हड्डियों के रोग नहीं होंगें।

 🌾बाजरे की रोटी का स्वाद जितना अच्छा है, उससे अधिक उसमें गुण भी हैं। 

🌾- बाजरे की रोटी खाने वाले को हड्डियों में कैल्शियम की कमी से पैदा होने वाला रोग आस्टियोपोरोसिस और खून की कमी यानी एनीमिया नहीं होता। 

🌾- बाजरा लीवर से संबंधित रोगों को भी कम करता है। 

🌾- गेहूं और चावल के मुकाबले बाजरे में ऊर्जा कई गुना है।

 🌾- बाजरे में भरपूर कैल्शियम होता है जो हड्डियों के लिए रामबाण औषधि है। उधर आयरन भी बाजरे में इतना अधिक होता है कि खून की कमी से होने वाले रोग नहीं हो सकते। 

🌾- खासतौर पर गर्भवती महिलाओं ने कैल्शियम की गोलियां खाने के स्थान पर रोज बाजरे की दो रोटी खाना चाहिए। 

🌾- वरिष्ठ चिकित्साधिकारी मेजर डा. बी.पी. सिंह के सेना में सिक्किम में तैनाती के दौरान जब गर्भवती महिलाओं को कैल्शियम और आयरन की जगह बाजरे की रोटी और खिचड़ी दी जाती थी। इससे उनके बच्चों को जन्म से लेकर पांच साल की उम्र तक कैल्शियम और आयरन की कमी से होने वाले रोग नहीं होते थे। 

🌾-इतना ही नहीं बाजरे का सेवन करने वाली महिलाओं में प्रसव में असामान्य पीड़ा के मामले भी न के बराबर पाए गए।

 🌾- डाक्टर तो बाजरे के गुणों से इतने प्रभावित है कि इसे अनाजों में वज्र की उपाधि देने में जुट गए हैं। 

🌾- बाजरे का किसी भी रूप में सेवन लाभकारी है। 
🌾लीवर की सुरक्षा के लिए भी बाजरा खाना लाभकारी है। 

🌾- उच्च रक्तचाप, हृदय की कमजोरी, अस्थमा से ग्रस्त लोगों तथा दूध पिलाने वाली माताओं में दूध की कमी के लिये यह टॉनिक का कार्य करता है। 

🌾- यदि बाजरे का नियमित रूप से सेवन किया जाय तो यह कुपोषण, क्षरण सम्बन्धी रोग और असमय वृद्धहोने की प्रक्रियाओं को दूर करता

🌾- रागी की खपत से शरीर प्राकृतिक रूप से शान्त होता है। यह एंग्जायटी, डिप्रेशन और नींद न आने की बीमारियों में फायदेमन्द होता है। यह माइग्रेन के लिये भी लाभदायक है।

 🌾- इसमें लेसिथिन और मिथियोनिन नामक अमीनो अम्ल होते हैं जो अतिरिक्त वसा को हटा कर कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करते हैं। 

🌾- बाजरे में उपस्थित रसायन पाचन की प्रक्रिया को धीमा करते हैं। 

डायबिटीज़ में यह रक्त में शक्कर की मात्रा को नियन्त्रित करने में सहायक होता है। 

यह मैसेज अगर आपको अच्छा लगे या समझ में आये की यह किसी के लिया रामबाण की तरह काम आएगा तो आप सेनिवेदन है कि इसमैसेज को अपने परिचित /मित्र/ या आपके व्हाट्स एप्प ग्रुप फ्रेंड्स तक भेज दे ।आपका यह कदम स्वस्थ भारत के निर्माण मैं योगदान के रूप में होगा दुआ मैं बड़ी ताकत होती है।


स्वस्थ रहो मस्त रहो व्यस्त रहो और सदा खुश रहो












Comments