Please send it to every citizen

एक राजा था जिसकी प्रजा हम भारतीयों की तरह सोई हुई थी !

बहुत से लोगों ने कोशिश की प्रजा जग जाए...

There was a king whose Citizens slept like  Indians!

Many people tried to awaken the people…

अगर कुछ गलत हो रहा है तो उसका विरोध करे,

लेकिन प्रजा को कोई फर्क नहीं पड़ता था !

राजा ने तेल के दाम बढ़ा दिये, प्रजा चुप रही,राजा ने अजीबो गरीब टैक्स लगाए, प्रजा चुप रही,राजा मनमानी करता रहा लेकिन प्रजा चुप रही,

एक दिन राजा के दिमाग मे एक बात आई उसने एक अच्छे-चौड़ेरास्ते को खुदवा के एक पुल बनाया जबकि वहां पुल की कतई आवश्यकता नहीं थी...

प्रजा फिर भी चुप थी, किसी ने नहीं पूछा के भाई यहाँ तो किसीपुल की जरुरत नहीं है, आप काहे बना रहे है..?

राजा ने अपने सैनिक उस पुल पे खड़े करवा दिए और पुल से गुजरने वाले हर व्यक्ति से टैक्स लिया जाने लगा,

फिर भी किसीने कोई विरोध नहीं किया !

फिर राजा ने अपने सैनिको को हुक्म दिया कि जो भी इस पुल से गुजरे उसको ""4 जूते"" मारे जाए और एक शिकायत पेटी भी पुल पर रखवा दी कि किसी को अगर कोई शिकायत हो तो शिकायत पेटी मे लिख कर डाल दे,

लेकिन प्रजा फिर भी चुप !

राजा रोज़ शिकायत पेटी खोल कर देखता की शायद किसी ने कोई विरोध किया हो, लेकिन उसे हमेशा पेटी खाली मिलती !

कुछ दिनो के बाद अचानक एक चिट्ठी मिली ..

राजा खुश हुआ के चलो कम से कम एक आदमी तो जागा....

जब चिट्ठी खोली गयी तो उसमे लिखा था -

"हुजूर जूते मारने वालों की संख्या बढ़ा दी जाए"...

हम लोगों को घर जाने मे देरी होती है !

ऐसे हो गए हैं हम ....

और हमारा समाज......
   
 एक तनख्वाह से कितनी बार टेक्स दूं और क्यों...जबाब है???
मैनें तीस दिन काम किया,
तनख्वाह ली - टैक्स दिया
मोबाइल खरीदा - टैक्स दिया--'
रिचार्ज किया - टैक्स दिया
डेटा लिया - टैक्स दिया
बिजली ली - टैक्स दिया
घर लिया - टैक्स दिया
TV फ्रीज़ आदि लिये - टैक्स दिया
कार ली - टैक्स दिया
पेट्रोल लिया - टैक्स दिया
सर्विस करवाई - टैक्स दिया
रोड पर चला - टैक्स दिया
टोल पर फिर - टैक्स दिया
लाइसेंस बनाया - टैक्स दिया
गलती की तो - टैक्स दिया
रेस्तरां मे खाया - टैक्स दिया
पार्किंग का - टैक्स दिया
पानी लिया - टैक्स दिया
राशन खरीदा - टैक्स दिया
कपड़े खरीदे - टैक्स दिया
जूते खरीदे - टैक्स दिया
कितबें ली - टैक्स दिया
टॉयलेट गया - टैक्स दिया
दवाई ली तो - टैक्स दिया
गैस ली - टैक्स दिया

सैकड़ों और चीजें ली ओर - टैक्स दिया, कहीं फ़ीस दी, कहीं बिल, कहीं ब्याज दिया, कहीं जुर्माने के नाम पर तो कहीं रिश्वत के नाम पर पैसा देने पड़े, ये सब ड्रामे के बाद गलती से सेविंग मे बचा तो फिर टैक्स दिया----

सारी उम्र काम करने के बाद कोई सोशल सेक्युरिटी नहीं, कोई पेंशन नही, कोई मेडिकल सुविधा नहीं, बच्चों के लिये अच्छे स्कूल नहीं, पब्लिक ट्रांस्पोर्ट नहीं, सड़कें खराब, स्ट्रीट लाईट खराब, हवा खराब, पानी खराब, फल सब्जी जहरीली, हॉस्पिटल महंगे, हर साल महंगाई की मार, आकस्मिक खर्चे व् आपदाएं , उसके बाद हर जगह लाइनें।।।।

सारा पैसा गया कहाँ????

करप्शन में , 
इलेक्शन में ,
अमीरों की सब्सिड़ी में ,
माल्या जैसो के भागने में
अमीरों के फर्जी दिवालिया होने में ,
स्विस बैंकों में ,
नेताओं के बंगले और कारों मे,    
और हमें झण्डू बाम बनाने मे।
अब किस को बोलूं कौन चोर है???
आखिर कब तक हमारे देशवासी यूंही घिसटती जिन्दगी जीते रहेंगे?????
-------------------------
कृपया इसे हरेक नागरिक को भेजें.
साला इतना लगान तो अंग्रेज भी नहीं लेते थे

https://bit.ly/2VBBE23

🌹🌹🙏🏻🌹🌹



If something is wrong, resist it,

But the subjects did not mind!

The king increased the price of oil, the subjects kept silent, the king imposed strange taxes, the subjects kept quiet, the king kept arbitrary but the subjects kept quiet,

One day a thing came to the mind of the king, he built a bridge made of a good road, when there was no need for a bridge there ...

The subjects were still silent, no one asked that brother, there is no need of any man, what are you making ..?

The king made his soldiers stand on that bridge and every person passing through the bridge was taxed,

Still no one protested!

Then the king ordered his soldiers that whoever passed through this bridge be killed "4 shoes" and also put a complaint box on the bridge that if anyone had any complaint, write the complaint in the box.

But the subjects still silent!

The King would open the complaint box everyday to see if someone had opposed it, but he would always get the box empty!

After a few days, suddenly a letter was received ..

The king was happy that at least one man was awakened…

When the letter was opened, it said -
"Increase the number of casualties" ...

We are late in going home!

This is how we have become…
And our society ……
 
 How many times should I pay a salary and why… the answer is ???
I worked for thirty days,
Salary paid - tax paid
Bought mobile - paid tax - '
Recharged - Tax paid
Data taken - tax paid
Electricity li - tax paid
Took home - paid tax
For TV freezes etc. - Tax paid
Car li - tax paid
Petrol taken - tax paid
Get the service done - Tax paid
Road driving - Tax paid
Tax paid on toll again
License made - Tax paid
If made a mistake - tax paid
Ate at the restaurant - tax paid
Parking - Tax paid
Took water - paid tax
Ration Bought - Tax Paid
Buy clothes - tax paid
Buy shoes - Tax paid
Kitben Li - Tax paid
Went to the toilet - paid tax
Took medicine - paid tax
Gas lee - tax paid
Hundreds of more things were taken - tax paid, fees paid, bills paid, interest paid in the name of bribes and in the name of bribes, all of them saved after saving accidentally, then tax was given. ---
After working all ages, no social security, no pension, no medical facilities, no good schools for children, no public transport, bad roads, bad street lights, spoiled water, poisonous fruit vegetables, hospital expensive , Every year, inflation, accidental expenses and disasters, thereafter lines everywhere.
Where did all the money go ????
In corruption,
In the election,
In the Subsidiary of the Rich,
Mallya Jaso's escape
In fake bankruptcies of the rich,
In Swiss banks,
In the leaders' bungalows and cars,
And to make us a balm.
Now who should I tell who is a thief ???
After all, how long will our countrymen continue to live like that?
-------------------------
Please send it to every citizen.
The British did not even take so much revenue

एक राजा था जिसकी प्रजा हम भारतीयों की तरह सोई हुई थी !

बहुत से लोगों ने कोशिश की प्रजा जग जाए...

अगर कुछ गलत हो रहा है तो उसका विरोध करे,

लेकिन प्रजा को कोई फर्क नहीं पड़ता था !

राजा ने तेल के दाम बढ़ा दिये, प्रजा चुप रही,राजा ने अजीबो गरीब टैक्स लगाए, प्रजा चुप रही,राजा मनमानी करता रहा लेकिन प्रजा चुप रही,

एक दिन राजा के दिमाग मे एक बात आई उसने एक अच्छे-चौड़ेरास्ते को खुदवा के एक पुल बनाया जबकि वहां पुल की कतई आवश्यकता नहीं थी...

प्रजा फिर भी चुप थी, किसी ने नहीं पूछा के भाई यहाँ तो किसीपुल की जरुरत नहीं है, आप काहे बना रहे है..?

राजा ने अपने सैनिक उस पुल पे खड़े करवा दिए और पुल से गुजरने वाले हर व्यक्ति से टैक्स लिया जाने लगा,

फिर भी किसीने कोई विरोध नहीं किया !

फिर राजा ने अपने सैनिको को हुक्म दिया कि जो भी इस पुल से गुजरे उसको ""4 जूते"" मारे जाए और एक शिकायत पेटी भी पुल पर रखवा दी कि किसी को अगर कोई शिकायत हो तो शिकायत पेटी मे लिख कर डाल दे,

लेकिन प्रजा फिर भी चुप !

राजा रोज़ शिकायत पेटी खोल कर देखता की शायद किसी ने कोई विरोध किया हो, लेकिन उसे हमेशा पेटी खाली मिलती !

कुछ दिनो के बाद अचानक एक चिट्ठी मिली ..

राजा खुश हुआ के चलो कम से कम एक आदमी तो जागा....

जब चिट्ठी खोली गयी तो उसमे लिखा था -
"हुजूर जूते मारने वालों की संख्या बढ़ा दी जाए"...

हम लोगों को घर जाने मे देरी होती है !

ऐसे हो गए हैं हम ....
और हमारा समाज......
   
 एक तनख्वाह से कितनी बार टेक्स दूं और क्यों...जबाब है???
मैनें तीस दिन काम किया,
तनख्वाह ली - टैक्स दिया
मोबाइल खरीदा - टैक्स दिया--'
रिचार्ज किया - टैक्स दिया
डेटा लिया - टैक्स दिया
बिजली ली - टैक्स दिया
घर लिया - टैक्स दिया
TV फ्रीज़ आदि लिये - टैक्स दिया
कार ली - टैक्स दिया
पेट्रोल लिया - टैक्स दिया
सर्विस करवाई - टैक्स दिया
रोड पर चला - टैक्स दिया
टोल पर फिर - टैक्स दिया
लाइसेंस बनाया - टैक्स दिया
गलती की तो - टैक्स दिया
रेस्तरां मे खाया - टैक्स दिया
पार्किंग का - टैक्स दिया
पानी लिया - टैक्स दिया
राशन खरीदा - टैक्स दिया
कपड़े खरीदे - टैक्स दिया
जूते खरीदे - टैक्स दिया
कितबें ली - टैक्स दिया
टॉयलेट गया - टैक्स दिया
दवाई ली तो - टैक्स दिया
गैस ली - टैक्स दिया
सैकड़ों और चीजें ली ओर - टैक्स दिया, कहीं फ़ीस दी, कहीं बिल, कहीं ब्याज दिया, कहीं जुर्माने के नाम पर तो कहीं रिश्वत के नाम पर पैसा देने पड़े, ये सब ड्रामे के बाद गलती से सेविंग मे बचा तो फिर टैक्स दिया----
सारी उम्र काम करने के बाद कोई सोशल सेक्युरिटी नहीं, कोई पेंशन नही, कोई मेडिकल सुविधा नहीं, बच्चों के लिये अच्छे स्कूल नहीं, पब्लिक ट्रांस्पोर्ट नहीं, सड़कें खराब, स्ट्रीट लाईट खराब, हवा खराब, पानी खराब, फल सब्जी जहरीली, हॉस्पिटल महंगे, हर साल महंगाई की मार, आकस्मिक खर्चे व् आपदाएं , उसके बाद हर जगह लाइनें।।।।
सारा पैसा गया कहाँ????
करप्शन में ,
इलेक्शन में ,
अमीरों की सब्सिड़ी में ,
माल्या जैसो के भागने में
अमीरों के फर्जी दिवालिया होने में ,
स्विस बैंकों में ,
नेताओं के बंगले और कारों मे, 
और हमें झण्डू बाम बनाने मे।
अब किस को बोलूं कौन चोर है???
आखिर कब तक हमारे देशवासी यूंही घिसटती जिन्दगी जीते रहेंगे?????
-------------------------
कृपया इसे हरेक नागरिक को भेजें.
साला इतना लगान तो अंग्रेज भी नहीं लेते थे

🌹🌹🙏🏻🌹🌹

Comments