This is called decision

👌🏼 शानदार   फैसला   ✅✅
एक बार जरूर पढे अच्छा लगे तो आगे भेजे
https://www.anxietyattak.com/2019/09/this-is-called-decision.html

👌🏼 great decision ✅✅
Send it forward

"Dad! Panchayat gathered, now divide." The elder boy of Amarchand ji said with a dry tone.

"Yes, father! Do not share the divide anymore," the younger boy Bhanwar Lal also said in the same tone.

"It is okay to separate the children when there is no peace together, now tell me which son will you be with?" The sarpanch asked Amarchand ji with his hand on his shoulder.

"Oh what to ask in this, six months Dad will be with me and six months younger Bhanwar will be with Lal."

"Let us decide, now let's divide the property!" The sarpanch said.

Amarchand ji, who had been sitting with his head bowed for a long time, stood up and shouted,

"How the decision has been made, now I will decide,

by throwing  these two boys out of the house!"

"Stay with me for six months alternately, and spend six months somewhere else."

"I am not the owner of this property."

Both the boys and the panchayat's face remained open, as if something new had happened .....

Examples-
This is called decision



Payments : 

Join  Google Pay, a payments app by Google. Enter our Code ( 59wc92 
and then make a payment. We'll each get ₹51!

Click here



Enter   Code  59wc92




"पिताजी  ! पंचायत इकठ्ठी हो गई, अब बँटवारा कर दो।" 

अमरचंद जी के बड़े लड़के ने रूखे लहजे में कहा।

"हाँ पिताजी ! कर दो बाँटवारा अब इकठ्ठे नहीं रहा जाता"

छोटे लड़के भंवर लाल ने भी उसी लहजे में कहा।

"जब साथ में निबाह न हो तो औलाद को अलग कर देना ही ठीक है,

अब यह बताओ तुम किस बेटे के साथ रहोगे ?"

सरपंच ने अमरचंद जी के कन्धे पर हाथ रख कर के पूछा।

"अरे इसमें क्या पूछना, छ: महीने पिताजी मेरे साथ रहेंगे और छ: महीने छोटे भंवर लाल के पास रहेंगे।"

" चलो तुम्हारा तो फैसला हो गया, अब करें जायदाद का बँटवारा !" सरपंच बोला।

अमरचंद जी जो काफी देर से सिर झुकाये बैठा था, एकदम उठ के खड़ा हो गया और चिल्ला के बोला,

" कैसा फैसला हो गया,

अब मैं करूंगा फैसला,

इन दोनों लड़कों को घर से बाहर निकाल कर !,"

"छः महीने बारी बारी से आकर मेरे पास रहें, और छः महीने कहीं और इंतजाम करें अपना...."

"जायदाद का मालिक मैं हूँ यह नहीं।"

दोनों लड़कों और पंचायत का मुँह खुला का खुला रह गया, जैसे कोई नई बात हो गई हो.....

उदाहरण-
इसे कहते हैं फैसला

फैसला औलाद नहीं करती फैसला मां-बाप करते हैं ।

जीता रहा मै, अपनी धुन मे
दुनिया का कायदा नही देखा...
रिश्ता निभाया तो दिल से,
कभी फायदा नही देखा।




Pilot's Career Guide

Pilot's Career Guide

by Capt Shekhar Gupta and Niriha Khajanchi | 1 January 2017
4.0 out of 5 stars5

All Best Career Guide

All Best Career Guide

by Capt Shekhar Gupta and Shina Kalra | 1 January 2019


Cabin Crew Career Guide

Comments