True Story

सत्य घटना - 
मेरे प्रिय साथियों यह निवेदन भी है और प्रार्थना भी,आग्रह भी है और चेतावनी भी।     
Facebook , Whatsapp, Instagram आदि पर ऐक्टिव रहने वाले व्यक्तियों के लिए.....

a true story -

A Police officer asked-
"How many people do you use Facebook from?"

Almost all said-
"we use."

Then he asked a parent to point out-
"How many Facebook friends do you have?"

Then the man stabbed and said,
"I have five thousand friends."

Everyone else will be surprised to see her more.

The police asked him the next question-
"How many people do you recognize them or meet them?"

Now she's a little nervous and said-
"More than hundred to two hundred."

Then the police officer said-
"There are so many facebook friends and the introduction is from one hundred to two hundred.
It is found in our repeated inspection that there is a criminal mind behind every five men.
Even in today's time, it has become difficult for the family to believe, and without thinking we can think of someone's friend request easily.
There was a case in our police station.
In which a three year old girl was gone.
After much investigation was investigated it was found that the girl had her first day of school.
The girl's father prepared a good girl and took out a photo and posted it on fb ...
"MY cute baby to first day of school."

For four days the girl went to school and on the fifth day she did not return from school.
In the investigation it was found that a man came in the school taking photos of fb and said that I am the uncle of the girl.
Problem has been done at home so I have come to pick him up.
This took him from school and said.
After intensive scrutiny, it was found that the girl was sent out of India within 24 hours.
The reason these criminals are such that they put the photo that it prepares its document through its fast chain and decides the day and arranges the event and takes it away.
After that no phone, no money demand
Now tell me what's wrong in it?
How sad that father would have made one of his own mistakes.

Why do we expect that we like to get on our photos or things and if anybody outside is praising them, even by calling them a thumb, for two four comments.

Do not people praise your house?
Why are we being responsible for the safety of the people of our family?
Our habits like dislikes have reached such a low level that it has become difficult to control it now.

Facebook, whatsapp, insta on the selfi, we are going there and going there. We arrived here, we reached there. We are here we are there and it is like giving a proper time, it is like warning the thieves. " Is like giving.
This request is nowadays run away from the way the competition is going on. Do not vote for the happiness of your home on Garo.
को Handle the hand just to say this. 🙏🏻🙏🏻🙏🙏

Pilot's Career Guide

by Capt Shekhar Gupta and Niriha Khajanchi | 

FREE Delivery by Amazon

Cabin Crew Career Guide, Path to Success

Cabin Crew Career Guide, Path to Success

by Pragati Srivastava and Capt. Shekhar Gupta | 1 January 2018
5.0 out of 5 stars4
Get it by Tomorrow, Jul 15
FREE Delivery by Amazon

All Best Career Guide

All Best Career Guide

by Capt Shekhar Gupta and Shina Kalra | 1 January 2019
5.0 out of 5 stars2
Get it by Tomorrow, Jul 15
FREE Delivery by Amazon

Cabin Crew Career Guide

Cabin Crew Career Guide

by Pragati Srivastava Air HostessCapt Shekhar Gupta Pilot, et al. | 1 January 2014
Get it by Tomorrow, Jul 15
FREE Delivery over ₹499. Fulfilled by Amazon.


AeroSoft Corp

AeroSoft Corp


स्कूल में पैरेंट मीटिंग में गया था वहां पर एक पुलिस अधिकारी भी आये थे।

सभा भरी थी।

वहां एक पुलिस अधिकारी ने पूछा-
"आप मे से कितने लोग फेसबुक का उपयोग करते हैं?"

लगभग सभी ने कहा-
"हम उपयोग करते हैं।"

तब उन्होंने एक पैरेंट्स की और इशारा करते हुए पूछा-
"आप के कितने फेसबुक फ्रेंड हैं?"

तब उस आदमी ने सीना ठोककर कहा-
"मेरे पांच हजार फ्रेंड्स हैं।"

बाकी सभी लोग आश्चर्य से उसकी और देखने लगें।

पुलिस ने उसे अगला प्रश्न किया-
"आप उनमे से कितने लोगो को प्रत्यक्ष पहचानते हो या उनसे मिले हो?"

अब वह थोड़ा घबराया और बोला-
" ज्यादा से ज्यादा सौ-दो सौ को।"

तब पुलिस अधिकारी ने कहा-
" इतने सारे facebook friends हैं ओर परिचय सौ दो सौ से है।
हमारे बार बार के निरीक्षण में यह पाया गया है कि हर पांच आदमियों के पीछे एक criminal mind होता है।
आज के समय में घरवालों पर भी विश्वास करना कठिन हो गया है और हम बगैर सोचें समझें किसी की भी  friends request  आसानी से accept कर लेते हैं।
हमारे पुलिस स्टेशन में एक केस आया।
जिसमे एक तीन साल की लड़की ग़ुम हो गई थी।
बहुत जाँच पड़ताल की गई तब पता चला कि उस लड़की का स्कूल का पहला दिन था।
उस लड़की के पिता ने लड़की को बढ़िया तैयार कर एक फोटो निकाला और  fb पर पोस्ट कर लिखा...
"MY cute baby to first day of school."

चार दिन वह लड़की स्कूल गयी और पाँचवे दिन वह स्कूल से वापस नही आई।
जांच में पता चला कि एक आदमी fb का फोटो लेकर स्कूल में आया था और उसने कहा मैं लड़की का चाचा हूं।
घर पर प्रोब्लम हो गई है इसलिए मैं उसे लेने आया हूँ।
ऐसा बोल कर स्कूल से ले गया।
सघन जाँच करने पर पता चला कि वह लड़की 24 घंटे के अंदर भारत के बाहर भेज दी गई।
कारण यह क्रिमिनल लोग ऐसे होते हैं कि फोटो डाला कि यह अपनी फ़ास्ट चेन के द्वारा उसके डाक्यूमेंट तैयार करके रख लेते हैं और दिन तय कर घटना को अन्जाम देते हैं और उठाकर ले जाते हैं।
उसके बाद न कोई फोन, न कोई पैसो की डिमांड।
अब बताओ इसमें गलती किसकी ?
अपनी एक गलती का उस पिता को कितना दुःख हुआ होगा।

हम क्यों अपेक्षा करते है कि अपने फोटो पर या बातों पर हमें like मिले और बाहर का कोई व्यक्ति अपनी प्रशंसा करे वह भी अँगूठा बताकर दो चार कमैंट्स के लिये।

अपने घर के लोग प्रशंशा करते नहीं क्या?
क्यों हम अपने कुटुम्ब के लोगों की सुरक्षा से खेल रहे हैं जवाबदार हम हैं।
हमारी आदतें पसंद नापसंद इतने निचले स्तर पर पहुंच गई हैं कि अब उस पर नियंत्रण करना कठिन हो गया है।

Facebook, whatsapp, insta पर की selfi ,हम इधर जा रहे हैं उधर जा रहे हैं।हम यहां पहुंचे हम वहा पहुंचे हम यहां है हम वहां है वह भी proper टाइम बताकर डालना याने चोर लुटरों को आगाह करने जैसा है।"दुश्मनों को मौका देने जैसा है।
यही निवेदन है आजकल जिस तरह से प्रतिस्पर्धा चल रही है उसमें मत भागिए।अपने घर की खुशियों को गैरो पर मत लुटाइये।
🙏🏻🙏🏻खुद को संभालो बस यही कहना है। 🙏🏻🙏🏻🙏🙏

Comments