Indian Voter


#नमैंचौकीदार
#नमैंनामदार
#नमैंबेरोज़गार
#मैंहूँकामगार

   मैं मध्यमवर्ग का हूँ । न मुझे एक रूपये में गेंहूँ मिलेगा, न ही मुफ़्त में शौचालय, न ही मैं किसी का वोट बैंक हूँ, न ही मुफ़्त प्रधानमन्त्री आवास का हक़दार, न ही उन 50 करोड़ लोगों में हूँ, जिन्हें आयुष्मान भारत का फ्री इलाज मिलेगा, न ही मिलेंगे न्याय के 72000, न ही उज्ज्वला का सिलिंडर, न ही माननीयों की तरह बुढ़ापे में पेंशन। 23 मई को TV देख कर खुश हो लूँगा, सरकार किसकी बनेगी और फिर उलझ जाऊंगा जीवन के उधेड़बुन में, रोज़मर्रा के संघर्ष में, परिवार को पालने में और मुफ्तखोरों के लिए TAX कमाने में।

                     #हाँ मैं कामगार_हूँ

निर्वाचन आयोग को मैं सलाह देना चाहता हूँ कि अगर अखबार एवं टी वी में इतना एड व प्रचार करने के बाद भी मतदान प्रतिशत नहीं बढ़ रहा है तो क्यों ना  एक बार पोलिंग बूथ पर भंडारा लगाकर  देख लिया जाए  

मेरे अनुसार भंडारों का खर्चा विज्ञापन के खर्चो से आधा ही रहेगा  । 🤣🤣🤣🤣🤣
और जिनकी ऊँगली पर स्याही का निशान होगा उन्ही को मौका मिलेगा जीमने का!

😜😜😜😜😃😂🤣😅

60 महीने के करीब नरेंद्र मोदी सरकार ने अपने प्रदर्शन पर नजर डाली:

पीएम मोदी ने अर्थव्यवस्था को ढलान पर आगे बढ़ाया है। यूपीए में किया गया सभी लाभ सेंसेक्स अब बीजेपी के अधीन हो गया।
सेंसेक्स 21 महीने के निचले स्तर पर, 3 लाख करोड़ का सफाया कर दिया। 68.34 रुपये पर, सितंबर 2013 के बाद से सबसे कमजोर। एसबीआई नेट 62% नीचे। पीएसयू का खून बह रहा है। 24,716 से 22,951 तक, सेंसेक्स मोदी के 21 महीने के शासन को अंगूठे देता है।
जीडीपी के फॉर्मूले में बदलाव के बाद भी विकास दर लगातार नीचे आ रही है। तीसरी तिमाही में विकास दर 7.3% पर आ गई है।
ज्यादातर अंतर्राष्ट्रीय एजेंसियां ​​मोदी सरकार द्वारा जारी नए जीडीपी डेटा से सहमत नहीं हैं, इसे अवास्तविक कहते हैं!
हर दिन वे सुधारों के बारे में बात करते हैं। वास्तविकता यह है कि राज्य के स्वामित्व वाले बैंकों ने १.४४ लाख करोड़ रुपये के कॉर्पोरेट ऋण लिखे हैं।
भारत में सबसे बड़ा ऋणदाता, एसबीआई का शुद्ध लाभ Q3FY16 में 62% तक गिर गया। बैंक ऑफ इंडिया का Q3 घाटा रु। 1,506 करोड़ था। एसबीआई के बुरे ऋणों ने 2yrs में 4 बार गोली मार दी है। Rs.5500cr से Rs.21313cr तक। व्यवसाय जीवित रहने में विफल हो रहे हैं।
70% सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक घाटे में चले गए हैं। निवेशकों द्वारा राज्य संचालित बैंकों के शेयरों को डंप किया जा रहा है।
रु। US$  58 / $ से फिसल कर, रु। ६8.३ $ / $ तक गिर गया, २१ महीने से कम समय में १ Rs% की गिरावट। इससे पहले रुपए ने कभी इतना खराब प्रदर्शन नहीं किया।
हर दिन मोदी सरकार मेक इन इंडिया का उल्लेख करती है। नवंबर 2018 के लिए औद्योगिक विकास (आईआईपी) नकारात्मक 3.2% है, जो 4yrs में सबसे कम है।
पीएमआई 50 ​​से नीचे चला गया है। यह एक स्पष्ट संकेतक है कि विनिर्माण क्षेत्र में एक गंभीर समस्या है।
चालू वित्त वर्ष में फैक्ट्री का उत्पादन लगभग 4% कम हो गया है। आउटपुट में 4% की गिरावट एक बहुत बड़ा आंकड़ा है।
6.85% पर खाद्य मुद्रास्फीति। औद्योगिक नेगेटिव 1.3% लुढ़का। सेंसेक्स के टैंक, रुपए की कमजोरी, अर्थव्यवस्था में गिरावट, लोग पीड़ित हैं।
क्रूड की कीमत $ 150 / बैरल से गिरकर $ 30 / बैरल होने के बावजूद अर्थव्यवस्था अच्छी हालत में नहीं है।
पाकिस्तान पर सरकार लगातार नीति बनाने में विफल रही है।
विभिन्न बुद्धिजीवियों द्वारा और पुरस्कार वाप्सी के माध्यम से असहिष्णुता के कई उदाहरण बढ़ रहे हैं।
नेपाल के साथ संबंधों की आपदा इस सरकार की विफलता है।
इस तरह का प्रदर्शन यह दर्शाता है कि हाँ वह बहुत अधिक था, लेकिन हमारे देश के लिए मुझे आशा है कि उसे मिले भारी जनादेश का सम्मान करने के लिए वह उद्धार करता है।



अगर प्रदर्शन यही रहा तो यह बहुत निराशाजनक होगा।











With the Narendra Modi Government nearing 60  months lets look at its performance:
  1. PM Modi has steered the economy down the slope. All gains Sensex made in UPA now lost under BJP.
  2. Sensex at 21month low, 3Lakh Crore wiped out. Rupee at 68.34, weakest since Sept 2013. SBI net down 62%. PSU's bleeding.From 24,716 to 22,951, Sensex gives thumbs-down to Modi’s 21 month rule.
  3. Even after change in GDP formula, growth rate continuously come down. In the 3rd Quarter, growth has come down to 7.3%.
  4. Most international agencies don't agree with the new GDP data released by Modi Govt, calls it unrealistic!
  5. Every day they talk about reforms. Reality is that State owned banks have written off Rs.1.14 lakh crore Corporate loans.
  6. The largest lender in India, SBI's net profit fell by 62% in Q3FY16. Bank of India's Q3 loss was Rs.1,506 crore. The bad debts of SBI has shot up 4 times in 2yrs. From Rs.5500cr to Rs.21313cr. Businesses are failing to survive.
  7. 70% Public Sector Banks have run into losses. The shares of state run banks are being dumped by investors.
  8. The Rupee slid from Rs 58/$, down to Rs.68.38/$, 17% fall in less than 21 months. Never before rupee performed so bad.
  9. Every day the Modi Govt mentions Make in India. Industrial Growth (IIP) for Nov 2015 is negative 3.2%, lowest in 4yrs.
  10. The PMI has gone below 50. This is a clear indicator that there is a serious problem in the manufacturing sector.
  11. Factory output has been pulled down in the current fiscal year by almost 4%. 4% decline in output is a huge figure.
  12. Food inflation at 6.85%. Industrial prod negative 1.3%. Sensex tanks, Rupee Weakens, Economy in doldrums, people suffer.
  13. The economy is not in good shape despite crude prices falling from $150/barrel to $30/barrel.
  14. On Pakistan the Government has failed to have a consistent policy.
  15. There are numerous instances of intolerance rising as highlighted by various intellectuals and through Award wapsi.
  16. calamitous state of relations with Nepal is  a failure of this Government.
The performance thus far indicates yes he was overrated  but for our country's sake I hope he delivers to respect the massive mandate he got.

If the performance remains what it has been then it would be very disappointing.

Comments