Many ATMs across the country May be closed by March 31 2019

31 मार्च तक बंद हो सकते हैं देशभर के 1.13 लाख ATM

1.13 lakh ATMs across the country May be closed by March 31 2019

By the end of this month, half of the country's ATMs may be discontinued. According to the information from the Confederation of ATM Industry ie CATMi, the reasons for the closure of ATM have been referred to the technical upgrade. CATMi has issued a warning and said that due to the recent standards of ATM hardware and software upgradation and cash management schemes, 50% of ATMs will be closed in the absence of operational till March 2019.
Cost of maintenance of a growing ATM
Total 2.38 lakh ATMs in the country
CATMi spokesman said that there are approximately 2,38,000 ATMs in India at this time, out of which 1,13,000 ATMs may be closed, including one million off-site and more than 15,000 white label ATMs.
The organization had to do this due to regulatory guidelines for upgrading ATM hardware and software, recent conditions of cash management standards and caching load caching mechanism of cash loading. Most of these will be of non-urban areas.
Rs 3,000 crore additional burden to be faced
Since the ban, new notes of 2000, 500, 200 and 100 rupees are in circulation. The size of these notes is different. Therefore, the system of ATM is also being changed according to the new notes.
For this, the maintenance of cemeteries (cassettes) in the ATM is also being changed. To change this system, the ATM industry will have an additional burden of about Rs 3,000 crore.
Why was this step taken?
The situation has become worse due to changes in the rules. Companies offering ATM services do not have any separate financial instruments to meet the additional budget, so the ATM will have to be forced to close.
The industry says that this situation can be exited only when banks bear the additional expenditure on complying with these rules themselves.
ATM service is getting expensive
For the past few years, income from the service of the ATM in the country has not increased. The reason is very low ATM interchange charges and continuous rising costs.
If ATM operators are not compensated by the banks for this extra expense, then they will not have any choice other than surrender from their service.
Due to which a large number of ATMs will be shut down. ATM is a service, so much revenue can not be expected from this system, whereas their costs and their operating costs are increasing.







Capt Shekhar Gupta Pilot: Books


Buy Cabin Crew Career Guide, Path to Success Book Online at Low Prices in India


Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India


Buy All Best Career Guide Book Online at Low Prices in India










31 मार्च तक बंद हो सकते हैं देशभर के 1.13 लाख ATM


इस महीने के अंत तक देश के आधे ATM बंद हो सकते हैं। कंफेडरेशन ऑफ एटीएम इंडस्ट्री यानी CATMi की तरफ से आई सूचना के अनुसार ATM बंद होने के पीछे की वजह तकनीकी अपग्रेड को बताया है। 

CATMi ने चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि ATM हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर अपग्रेड और नकदी प्रबंधन योजनओं के हालिया मानकों के चलते मार्च 2019 तक संचालन के अभाव में 50 फीसदी एटीएम बंद हो जाएंगे।


लगातार बढ रहा ATM के रखरखाव का खर्च
देश में हैं कुल 2.38 लाख एटीएम
CATMi के प्रवक्ता ने कहा कि भारत में इस समय तकरीबन 2,38,000 ATM हैं, जिनमें से एक लाख ऑफ-साइट और 15,000 से अधिक व्हाइट लेबल ATM समेत कुल 1,13,000 ATM बंद हो सकते हैं। 
ATM हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर अपग्रेड करने के लिए विनियामक दिशानिर्देश, नकदी प्रबंधन मानकों की हालिया शर्ते और कैश लोडिंग की कैसेट स्वैप पद्धति के कारण संगठन को ऐसा करना पड़ा। इनमें से अधिकांश गैर-शहरी क्षेत्रों के होंगे।
झेलना पड़ेगा 3,000 करोड़ रुपए का अतिरिक्त बोझ
नोटबंदी के बाद से 2000, 500, 200 और 100 रुपए के नए नोट चलन में हैं। 

इन नोटों का साइज अलग है। इसलिए अब नए नोटों के हिसाब से ATM के सिस्टम को भी बदला जा रहा है। 
इसके लिए ATM में नोट रखने के खाचों (कैसेट) को भी बदला जा रहा है। इस पूरी व्यवस्था को बदलने के लिए एटीएम इंडस्ट्री पर करीब 3,000 करोड़ रुपए का अतिरिक्त बोझ पड़ेगा।
क्यों उठाया गया ये कदम?
नियमों में बदलाव से स्थिति अब और ज्यादा खराब हो गई है। एटीएम सेवाएं देने वाली कंपनियों के पास अतिरिक्त बजट को पूरा करने के लिए कोई अलग से वित्तीय साधन नहीं हैं, इसलिए ATM को बंद करने के लिए मजबूर होना पड़ेगा। 
इडस्ट्री का कहना है कि इस हालात से तभी बाहर निकला जा सकता है जब बैंक इन नियमों के अनुपालन पर होने वाले अतिरिक्त खर्च को खुद वहन करें।
ATM सर्विस पड़ रही महंगी
पिछले कुछ वक्त से देश में ATM लगाने की सर्विस से होने वाली आय नहीं बढ़ी है। इसकी वजह बहुत कम ATM इंटरचेंज चार्जेस और लगातार बढ़ती लागत है। 
अगर बैंकों द्वारा एटीएम संचालक कंपनियों को इस अतिरिक्त खर्च के लिए मुआवजा नहीं दिया जाता है तो उन्हें अपनी सर्विस से सरेंडर करने के अलावा और कोई चारा नहीं बचेगा। 
जिसके कारण बड़ी संख्या में एटीएम बंद हो जाएंगे। एटीएम एक सेवा है, इसलिए इस सिस्टम से बहुत ज्यादा राजस्व की उम्मीद नहीं की जा सकती है, जबकि इनकी लागत और इनके संचालन का खर्च बढ़ रहा है।







Capt Shekhar Gupta Pilot: Books


Buy Cabin Crew Career Guide, Path to Success Book Online at Low Prices in India


Buy Pilot's Career Guide Book Online at Low Prices in India


Buy All Best Career Guide Book Online at Low Prices in India










Comments