Can not you stop watching the channel for these two and a half months? Do it - Raviish Kumar

Can not you stop watching the channel for these two and a half months? Do it - Raviish Kumar



If you want to save your citizenship, stop watching the news channels. If you want to play a role as a responsible citizen in democracy, stop watching the news channels. If you want to avoid saving your children from communalism, stop watching the news channels. If you want to save journalism in India, stop watching the news channels. Seeing news channels is to see the fall of oneself. I appeal to you that you do not see any news channels. Do not watch on a TV set or on mobile. Remove the channels from your routine. Of course not even see me but stop watching the news channels.



I have been saying this beforehand. I know that you can not come out of this drunkenness so easily, but once again appeal that just stop watching these two-month news channels. Which you are currently watching on the channels, it is the world of fad. Is the world of frenzy This is what has happened to them. This is not happening for the first time. When there is no tension with Pakistan, then these channels create tension about the temple, when there is no tension in the temple, then this channel produces tension about Padmavati, when there is no tension in the film, then these channels will tell the story of Karaana Hindus and Muslims create tension in the region. When nothing happens, they conduct hours on a bargain survey, which does not make any sense.



Do you understand why this is happening? Do you see the public as a public in these channels? These channels have removed the public. Has crushed. There are no public questions. Questions of the public are being made to question the channels. It's not so nonsense that you can not understand. People are upset. They return after turning the channel-channel but they are not in place. There are no space for all the questions of the youngsters, but the channels are fooling them by grabbing their question. Where the channels come from these questions, you should know. Whatever they do now, whatever they do, they do for the same tension which makes the path for a leader. Whose name is Prime Minister Narendra Modi.



News channels, government, BJP and Modi have all been merged. This merger is so good that you will not be able to make a difference whether it is journalism or Propaganda. You like a leader. It is natural and very important as well. But by taking advantage of that choice what is being done through these channels, it is dangerous. Responsible supporters of BJP also need correct information. Serving propaganda in the devotion of the government and Modi is also an insult to that supporter. He has to be fooled, while he supports anyone on the basis of information about his options in front. Today's news channels insult not just the general citizen but also insulting the BJP's supporters.



I also appeal to BJP supporters that you do not see these channels. You will not be involved in a waste of India's democracy. Can not you support Narendra Modi without these deceptive channels? Is it necessary to support the fall of journalism to support Narendra Modi? Again you are not an honest political supporter. Has it been impossible to support Narendra Modi with the standards of superior journalism? BJP supporters, you chose BJP, not these channels Fall of the media is also a fall of politics. There is a downfall of a good supporter too.



The channels are attacking your citizenship. Citizens are not created in the air in democracy. Being born in just a geographic region, you are not a citizen. The right information and the right questions are important for your citizenship. These news channels do not have both. Prime Minister Modi is the guardian of this fall of journalism. Are patrons In their devotion, the channels have made themselves concocted. They were frantic before, but now they are making you the buzz. Democracy will be eradicated, your democracy will be eroded.



India Pakistan has got the chance to be patriots on the pretext of tension. They have no devotion to the nation. If the devotion was there, the essential pillars of democracy would have built high standards of journalism. The way the Hindustan has been fabricated within you, the way India has been fabricated on the channels, it is not our Hindustan. She is a fake India Love from the country means that we all do our own work according to high ideals and standards. Dare to see that your patriotism is being fabricated with false information and non-violence slogans and analysis. You want to make these news channels artificial channels by ending the natural channel of patriotism. So that you can become a dead robot.



The newspapers and channels of this time are declaring your citizenship and the right to civil rights. You should be seen from the front that this is not going to happen, but it has happened. Newspapers are still there. Hindi newspapers have taken the supari of killing readers. Based on incorrect and poor information readers are being killed. Look at the pages of the newspapers carefully too. Take out Hindi newspapers and throw them out of the house. Leave sleeping by putting an alarm on one day. Get up and tell Hawker to give newspaper after Bhaiya election.

This government does not want you to become a capable citizen of the right information. Channels end up every possibility of becoming a opposition

The channels are attacking your citizenship. Citizens are not created in the air in democracy. Being born in just a geographic region, you are not a citizen. The right information and the right questions are important for your citizenship. These news channels do not have both. Prime Minister Modi is the guardian of this fall of journalism. Are patrons In their devotion, the channels have made themselves concocted. They were frantic before, but now they are making you the buzz. Democracy will be eradicated, your democracy will be eroded.



India Pakistan has got the chance to be patriots on the pretext of tension. They have no devotion to the nation. If the devotion was there, the essential pillars of democracy would have built high standards of journalism. The way the Hindustan has been fabricated within you, the way India has been fabricated on the channels, it is not our Hindustan. She is a fake India Love from the country means that we all do our own work according to high ideals and standards. Dare to see that your patriotism is being fabricated with false information and non-violence slogans and analysis. You want to make these news channels artificial channels by ending the natural channel of patriotism. So that you can become a dead robot.



The newspapers and channels of this time are declaring your citizenship and the right to civil rights. You should be seen from the front that this is not going to happen, but it has happened. Newspapers are still there. Hindi newspapers have taken the supari of killing readers. Based on incorrect and poor information readers are being killed. Look at the pages of the newspapers carefully too. Take out Hindi newspapers and throw them out of the house. Leave sleeping by putting an alarm on one day. Get up and tell Hawker to give newspaper after Bhaiya election.



This government does not want you to become a capable citizen of the right information. The channels have ended every possibility of becoming the opposition. If you do not have the opposition of the government, you can not even become a supporter of the government. Supporting the senses and supporting drug addiction are both different things. In the first place, your self respect is reflected. Your insult in the second Do you want to see these news channels humiliated and support the government through them?



I know that my talk will not reach millions of people, and millions of people will stop watching the news channel. But I warn you that if this is the journalism of the channels then the future of democracy in India is not beautiful. News channels have been a public stronghold that will be based on incorrect information and limited information. The channel will beat the public created by this public which needs information, which has questions. Without a question or information, there is no democracy. There is no citizen in democracy.



Every possibility of truth and fact has been abolished. I see every day the public gets shocked. The channel wants to keep the public in the midst of the mediocre. Where politics is building its borders. Political parties have not left the issues outside. Do not know how many issues are waiting. The channels have drawn people in their contact against the people. Your defeat is advertised as the bandit of these channels. Your slavery is their victory No one can easily come out with their effect. You are an audience. Do not support the collapse of journalism to support a leader. It's just a matter of two and a half months. Stop watching the channels










क्या आप इन ढाई महीने के लिए चैनल देखना बंद नहीं कर सकते? कर दीजिए- रवीश कुमार

अगर आप अपनी नागरिकता को बचाना चाहते हैं तो न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कर दें। अगर आप लोकतंत्र में एक ज़िम्मेदार नागरिक के रूप में भूमिका निभाना चाहते हैं तो न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कर दें। अगर आप अपने बच्चों को सांप्रदायिकता से बचाना से बचाना चाहते हैं तो न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कर दें। अगर आप भारत में पत्रकारिता को बचाना चाहते हैं तो न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कर दें। न्यूज़ चैनलों को देखना ख़ुद के पतन को देखना है।  मैं आपसे अपील करता हूं कि आप कोई भी न्यूज़ चैनल न देखें। न टीवी सेट पर देखें और न ही मोबाइल पर। अपनी दिनचर्या से चैनलों को देखना हटा दीजिए। बेशक मुझे भी न देखें लेकिन न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कीजिए।

मैं यह बात पहले से कहता रहा हूं। मैं जानता हूं कि आप इतनी आसानी से मूर्खता के इस नशे से बाहर नहीं आ सकते लेकिन एक बार फिर अपील करता हूं कि बस इन ढाई महीनों के न्यूज़ चैनलों को देखना बंद कर दीजिए। जो आप इस वक्त चैनलों पर देख रहे हैं, वह सनक का संसार है। उन्माद का संसार है। इनकी यही फितरत हो गई है। पहली बार ऐसा नहीं हो रहा है। जब पाकिस्तान से तनाव नहीं होता है तब ये चैनल मंदिर को लेकर तनाव पैदा करते हैं, जब मंदिर का तनाव नहीं होता है तो ये चैनल पद्मावति फिल्म को लेकर तनाव पैदा करते हैं जब फिल्म का तनाव नहीं होता है तो ये चैनल कैराना के झूठ को लेकर हिन्दू-मुसलमान में तनाव में पैदा करते हैं। जब कुछ नहीं होता है तो ये फर्ज़ी सर्वे पर घंटों कार्यक्रम करते हैं जिनका कोई मतलब नहीं होता है।

क्या आप समझ पाते हैं कि यह सब क्यों हो रहा है? क्या आप पब्लिक के तौर पर इन चैनलों में पब्लिक को देख पाते हैं? इन चैनलों ने आप पब्लिक को हटा दिया है। कुचल दिया है। पब्लिक के सवाल नहीं हैं। चैनलों के सवाल पब्लिक के सवाल बनाए जा रहे हैं। यह इतनी भी बारीक बात नहीं है कि आप समझ नहीं सकते। लोग परेशान हैं। वे चैनल-चैनल घूम कर लौट जाते हैं मगर उनकी जगह नहीं होती। नौजावनों के तमाम सवालों के लिए जगह नहीं होती मगर चैनल अपना सवाल पकड़ा कर उन्हें मूर्ख बना रहे हैं। चैनलों को ये सवाल कहां से आते हैं, आपको पता होना चाहिए। ये अब जब भी करते हैं, जो कुछ भी करते हैं, उसी तनाव के लिए करते हैं जो एक नेता के लिए रास्ता बनाता है। जिनका नाम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है।

न्यूज़ चैनलों, सरकार, बीजेपी और मोदी इन सबका विलय हो चुका है। यह विलय इतना बेहतरीन है कि आप फर्क नहीं कर पाएंगे कि पत्रकारिता है या प्रोपेगैंडा है। आप एक नेता को पसंद करते हैं। यह स्वाभाविक है और बहुत हद तक ज़रूरी भी। लेकिन उस पसंद का लाभ उठाकर इन चैनलों के द्वारा जो किया जा रहा है, वो ख़तरनाक है। बीजेपी के भी ज़िम्मेदार समर्थकों को सही सूचना की ज़रूरत होती है। सरकार और मोदी की भक्ति में प्रोपेगैंडा को परोसना उस समर्थक का भी अपमान है। उसे मूर्ख समझना है जबकि वह अपने सामने के विकल्पों की सूचनाओं के आधार पर किसी का समर्थन करता है। आज के न्यूज़ चैनल न सिर्फ सामान्य नागरिक का अपमान करते हैं बल्कि उसके साथ भाजपा के समर्थकों का भी अपमान कर रहे हैं।

मैं भाजपा समर्थकों से भी अपील करता हूं कि आप इन चैनलों को न देखें। आप भारत के लोकतंत्र की बर्बादी में शामिल न हों। क्या आप इन बेहूदा चैनलों के बग़ैर नरेंद्र मोदी का समर्थन नहीं कर सकते? क्या यह ज़रूरी है कि नरेंद्र मोदी का समर्थन करने के लिए पत्रकारिता के पतन का भी समर्थन किया जाए? फिर आप एक ईमानदार राजनीतिक समर्थक नहीं हैं। क्या श्रेष्ठ पत्रकारिता के मानकों के साथ नरेंद्र मोदी का समर्थन करना असंभव हो चुका है? भाजपा समर्थकों, आपने भाजपा को चुना था, इन चैनलों को नहीं। मीडिया का पतन राजनीति का भी पतन है। एक अच्छे समर्थक का भी पतन है।

चैनल आपकी नागरिकता पर हमला कर रहे हैं। लोकतंत्र में नागरिक हवा में नहीं बनता है। सिर्फ किसी भौगोलिक प्रदेश में पैदा हो जाने से आप नागरिक नहीं होते। सही सूचना और सही सवाल आपकी नागरिकता के लिए ज़रूरी है। इन न्यूज़ चैनलों के पास दोनों नहीं हैं। प्रधानमंत्री मोदी पत्रकारिता के इस पतन के अभिभावक हैं। संरक्षक हैं। उनकी भक्ति में चैनलों ने ख़ुद को भांड बना दिया है। वे पहले भी भांड थे मगर अब वे आपको भांड बना रहे हैं। आपका भांड बन जाना लोकतंत्र का मिट जाना होगा।

भारत पाकिस्तान तनाव के बहाने इन्हें राष्ट्रभक्त होने का मौका मिल गया है। इनके पास राष्ट्र को लेकर कोई भक्ति नहीं है। भक्ति होती तो लोकतंत्र के ज़रूरी स्तंभ पत्रकारिता के उच्च मानकों को गढ़ते। चैनलों पर जिस तरह का हिन्दुस्तान गढ़ा जा चुका है, उनके ज़रिए आपके भीतर जिस तरह का हिन्दुस्तान गढ़ा गया है वो हमारा हिन्दुस्तान नहीं है। वो एक नकली हिन्दुस्तान है। देश से प्रेम का मतलब होता है कि हम सब अपना अपना काम उच्च आदर्शों और मानकों के हिसाब से करें। हिम्मत देखिए कि झूठी सूचनाओं और अनाप-शनाप नारों और विश्लेषणों से आपकी देशभक्ति गढ़ी जा रही है। आपके भीतर देशभक्ति के प्राकृतिक चैनल को ख़त्म कर ये न्यूज़ चैनल कृत्रिम चैनल बनाना चाहते हैं। ताकि आप एक मुर्दा रोबोट बन कर रह जाएं।

इस वक्त के अख़बार और चैनल आपकी नागरिकता और नागरिक अधिकारों के ख़ात्मे का एलान कर रहे हैं। आपको सामने से दिख जाना चाहिए कि ये होने वाला नहीं बल्कि हो चुका है। अख़बारों के हाल भी वहीं हैं। हिन्दी के अख़बारों ने तो पाठकों की हत्या की सुपारी ले ली है। ग़लत और कमज़ोर सूचनाओं के आधार पर पाठकों की हत्या ही हो रही है। अखबारों के पन्ने भी ध्यान से देखें। हिन्दी अख़बारों को उठा कर घर से फेंक दें। एक दिन अलार्म लगाकर सो जाइये। उठकर हॉकर से कह दीजिए कि भइया चुनाव बाद अख़बार दे जाना।

यह सरकार नहीं चाहती है कि आप सही सूचनाओं से लैस सक्षम नागरिक बनें। चैनलों ने विपक्ष बनने की हर संभावना को ख़त्म किया है। आपके भीतर अगर सरकार का विपक्ष न बने तो आप सरकार का समर्थक भी नहीं बन सकते। होश में सपोर्ट करना और नशे का इंजेक्शन देकर सपोर्ट करवाना दोनों अलग बातें हैं। पहले में आपका स्वाभिमान झलकता है। दूसरे में आपका अपमान। क्या आप अपमानित होकर इन न्यूज़ चैनलों को देखना चाहते हैं, इनके ज़रिए सरकार को समर्थन करना चाहते हैं?

मैं जानता हूं कि मेरी यह बात न करोड़ों लोगों तक पहुंचेगी और न करोड़ों लोग न्यूज़ चैनल देखना छोड़ेंगे। मगर मैं आपको आगाह करता हूं कि अगर यही चैनलों की पत्रकारिता है तो भारत में लोकतंत्र का भविष्य सुंदर नहीं है। न्यूज़ चैनलों ने एक ऐसी पब्लिक गढ़ रही है जो गलत सूचनाओं और सीमित सूचनाओं पर आधारित होगी। चैनल अपनी बनाई हुई इस पब्लिक से उस पब्लिक को हरा देंगे जिसे सूचनाओं की ज़रूरत होती है, जिसके पास सवाल होते हैं। सवाल और सूचना के बग़ैर लोकतंत्र नहीं होता। लोकतंत्र में नागिरक नहीं होता।

सत्य और तथ्य की हर संभावना समाप्त कर दी गई है। मैं हर रोज़ पब्लिक को धेकेले जाते देखता हूं। चैनल पब्लिक को मंझधार में धकेल कर रखना चाहते हैं। जहां राजनीति अपना बंवडर रच रही है। राजनीतिक दलों से बाहर के मसलों की जगह नहीं बची है। न जाने कितने मसले इंतज़ार कर रहे हैं। चैनलों ने अपने संपर्क में आए लोगों को लोगों के खिलाफ तैयार किया है। आपकी हार का एलान है इन चैनलों की बादशाहत। आपकी ग़ुलामी है इनकी जीत। इनके असर से कोई इतनी आसानी से नहीं निकल सकता है। आप एक दर्शक हैं। आप एक नेता का समर्थन करने के लिए पत्रकारिता के पतन का समर्थन मत कीजिए। सिर्फ ढाई महीने की बात है। चैनलों को देखना बंद कर दीजिए।

Who can lie better than Modi? 

Modi is a super specialist in lying. All his schemes, campaigns and announcements are fake, absolutely useless. Here are the reasons, which I think for his childhood habit of lying:


  1. He wants to retain power at all costs, so that he can become the richest person in India like his peer group of AA.
  2. He considers public to be fool, who will always believe in his jumlas and false promises that he delivers during his long speeches.
  3. He thinks, people get easier lured by money, reservations, religious sentiments.
  4. He thinks himself to be far intelligent than the biggest scientists, scholars and Nobel laureates.
  5. He thinks there is no need for getting educated as ultimately, Indian youth are meant to sell pakoras, tea and Bhajji at the street corners.
  6. He believes he can control all the public institutions and their heads, there is no chief or head who can challenge his authority.
  7. He believes everything can be organised using the power of money, by taking and giving favours to corporates.
  8. He believes he has every right to waste public money on self promoting advertisements, building statues and lavish temples.
  9. He believes there is always easy ways, like escaping from parliament, hiding in his room to avoid questions and avoiding press conferences to hide from reality. 
वह हर कीमत पर सत्ता बनाए रखना चाहता है, ताकि वह AA के अपने सहकर्मी समूह की तरह भारत का सबसे अमीर व्यक्ति बन सके।

वह सार्वजनिक रूप से मूर्ख मानता है, जो हमेशा अपने जुमलों और झूठे वादों पर विश्वास करेगा जो वह अपने लंबे भाषणों के दौरान सुनाता है।

वह सोचता है, लोगों को पैसे, आरक्षण, धार्मिक भावनाओं का लालच मिलता है।

वह खुद को सबसे बड़े वैज्ञानिकों, विद्वानों और नोबेल पुरस्कार विजेताओं की तुलना में अधिक बुद्धिमान मानते हैं।

वह सोचते हैं कि आखिरकार शिक्षित होने की कोई आवश्यकता नहीं है, भारतीय युवा सड़क के कोनों पर पकोड़े, चाय और भज्जी बेचने के लिए हैं।

उनका मानना ​​है कि वह सभी सार्वजनिक संस्थानों और उनके प्रमुखों को नियंत्रित कर सकते हैं, कोई भी प्रमुख या प्रमुख नहीं है जो उनके अधिकार को चुनौती दे सके।

उनका मानना ​​है कि धन की शक्ति का उपयोग करके और कॉर्पोरेट्स को एहसान देकर सब कुछ व्यवस्थित किया जा सकता है।

उनका मानना ​​है कि स्व-प्रचारक विज्ञापनों, मूर्तियों के निर्माण और भव्य मंदिरों पर सार्वजनिक धन बर्बाद करने का उन्हें पूरा अधिकार है।

उनका मानना ​​है कि हमेशा आसान तरीके होते हैं, जैसे संसद से भागना, सवालों से बचने के लिए अपने कमरे में छिपना और वास्तविकता से छिपाने के लिए प्रेस कॉन्फ्रेंस से बचना।



Comments