This Poem Touched Your Heart

जो लडकियाँ लव के चक्कर में पड़कर 
       अपने माँ-बाप को छोड़कर
          घर से भाग जाती हैं

                       मैं 
उन लडकियों के लिए कुछ कहना चाहुंगा.
     
    बाबुल की बगिया में जब तू,
               बनके कली खिली,
          तुमको क्या मालूम की,
     उनको कितनी खुशी मिली.....!!

  उस बाबुल को मार के ठोकर,
             घर से भाग जाती हो,
जिसका प्यारा हाथ पकड़ कर,
             तुम पहली बार चली....!!

          तूने निष्ठुर बन भाई की,
           राखी को कैसे भुलाया,
      घर से भागते वक़्त माँ का,
             आँचल याद न आया....!!

         तेरे गम में बाप हलक से,
              कौर निगल ना पाया,
           अपने स्वार्थ के खातिर,
        तूने घर में मातम फैलाया....!!

             वो प्रेमी भी क्या प्रेमी,
    जो तुम्हें भागने को उकसाये,
           वो दोस्त भी क्या दोस्त,
        जो तेरे यौवन पे ललचाये....!!

        ऐसे तन के लोभी तुझको,
             कभी भी सुख ना देंगे,
               उलटे तुझसे ही तेरा,
           सुख चैन सभी हर लेंगें...!!

          सुख देने वालो को यदि,
             तुम दुःख दे जाओगी,
     तो तुम भी अपने जीवन में,
            सुख कहाँ से पाओगी...!!

        अगर माँ बाप को अपने,
        तुम ठुकरा कर जाओगी,
      तो जीवन के हर मोड पर,
                ठोकर ही खाओगी...!!

        जो - जो भी गई भागकर,
                     ठोकर खाती हैं,
                  अपनी गलती पर,
        रो-रोकर अश्क बहाती हैं...!!

                 एक ही किचन में,
    मुर्गी के संग साग पकाती हैं,
                 हुईं भयानक भूल,
       सोचकर अब पछताती हैं....!!

            जिंदगी में हर पल तू,
           रहना सदा ही जिन्दा,
         तेरे कारण माँ बाप को,
          ना होना पड़े शर्मिन्दा....!!

        यदि भाग गई घर से तो,
          वे जीते जी मर जाएंगे,
            तू उनकी बेटी हैं यह,
            सोच - सोच पछताए....!!

यह कविता ने आप के दिल को छुआ हो
      तो आगे जरूर बढ़ाये.!!
          🙏🏻           🙏🏻









The Girls who Fall  in Love
       Leaving your parents
          Escape from home

                       I
I would like to say something to those girls
     
    When you are in Babylon,
               Baked bud kuli,
          What do you know,
     They were so happy ..... !!

  Strike the Babylonians,
             Run away from home,
Whose loving hand hold,
             You first went .... !!

          You became stoic brother,
           How to forget Rakhi,
      Mom's time running from home,
             Achanal did not remember .... !!

         From your father, in your gum,
              Did not swallow Kaur
           For the sake of your selfishness,
        You spread the weeds in the house .... !!

             What are the lovers,
    Which incites you to escape,
           What friend is that friend,
        Joe taye yoovan pe lalachaye .... !!

        If you are such a child,
             Will never give happiness
               Inverted by thee,
           Happiness and happiness are all ... !!

          If you give happiness,
             You will be sad,
     So you too in your life,
            Where can you find happiness ... !!

        If the parents have their own,
        You will turn down,
      So in every mode of life,
                Stumble it will eat ... !!

        Joe - By whichever is gone,
                     Stumbles,
                  On your mistake,
        Ro-Roker Ashaka sahte hain ... !!

                 In the same kitchen,
    Greens are cooked with chicken,
                 The terrible mistake happened,
       Thinking again ... !!

            Every moment in life,
           Living is always alive,
         Because of you mother,
          Do not be ashamed .... !!

        If ran away from home,
          They will live,
            You are their daughter,
            Thinking - thinking sorry .... !!

This Poem Touched  Your Heart
      Then definitely increase. !!


          🙏🏻 🙏🏻

Comments