The Person Who is sitting on the Road ? Do you know Him ?

The Person Who is sitting on the Road is sitting there sitting there and Eating food. 

Do you know Him ?

Prof Jean Dreze


ये जो आदमी बैठा है रोड पर, वहीं बैठ कर खाना खा रहा है। 
जानते हैं इसको ? 

आइए बताता हूं ।

यूपीए शासनकाल के दौरान नेशनल एडवाइजरी कमिटी के मेंबर थे। मनरेगा की ड्रॉफ्टिंग इन्होंने की थी। आरटीआई लागू करवाने में इनका हाथ था। बेल्जियम में पैदा हुए, लंदन स्कूल ऑफ इकॉनिमिक्स में पढ़ाया और अब भारत में हैं। इलाहाबाद यूनीवर्सिटी के जीबी पंत सोशल साइंस में विजिटिंग प्रोफेसर रहे। इलाहाबाद में तो झूंसी से विश्वविद्यालय तक साईकिल से आते जाते थे। मैं अक्सर ही इनकी उंची साईकिल देख हैरत में रह जाता था कि अंग्रेज भी साईकिल चलाते हैं। जब पहली बार मिलने गया तो वह मेरा ग्रेज्यूएशन का वक्त था। कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए RTI पर डॉक्यूमेट्री बनानी थी। 

मैंने कहा हिंदी में बात करें? 

वे तुरंत तैयार हो गए।


खैर, नोबल अर्थशास्त्री अमर्तय सेन के साथ डेवलपमेंट इकॉनिमी पर किताब लिख चुके हैं। दुनिया भर में सैकड़ों पेपर पब्लिश हो चुके हैं। पिछले दिनों रांची में इनकी बाइक पुलिस वाले थाने उठा लाए। भाजपाई इनको नक्सलियों का समर्थक कहते हैं। पहले बुराई/मज़ाक और फिर बाद में नरेंद्र मोदी जिस नरेगा की तारीफ करते नहीं थकते, उसका कॉन्सेप्ट इन्हीं की देन है। फिलहाल वे रांची यूनीवर्सिटी में पढ़ा रहे हैं। दिल्ली स्कूल ऑफ इकॉनिमिक्स में भी विजिटिंग प्रोफेसर हैं।
सादगी तो देखिए। गरीबों और असहाय लोगों के लिए दिल्ली में सड़क पर बैठ गए हैं। हमेशा से ज्यां द्रे ऐसे ही रहे हैं। यह कोई पहली घटना नहीं है। राष्ट्र निर्माण के लिए जो पिछली सरकार को आयडिया दिया करता था, जिसकी दर्जनों किताबें भारतीय अर्थशास्त्र को मार्ग दिखा रही हों, वह उन गरीब गुरबां के लिए यूं लड़ रहा है जिसे मोदी सरकार अडानी/अंबानी का निवाला बना देने पर तुली हुई है।

गूगल करना चाहें तो टाइप करें- Prof Jean Dreze








During the UPA regime, there were members of the National Advisory Committee. He had draftsmen for MNREGA. They had hand in implementing RTI. Born in Belgium, taught at the London School of Economics and is now in India. Visiting Professor in GB Pant Social Science of Allahabad University In Allahabad, the Jhansi used to come from the bicycles to the university. I would often be surprised to see their height bicycles that the British also used to cycle. When I first met, it was my graduation time. The college project was to create a documentary on the RTI. I said talk in Hindi? They got ready immediately
Well, Noble economist Amartya Sen has written a book on Development Economy. Hundreds of papers have been published worldwide. Last time, in Ranchi, he picked up his police bike police station. The BJP calls them a supporter of the Maoists. 

The first evil / joke and later Narendra Modi, who does not tire of praising Narega, his concept is the same. Right now he is Teaching  at Ranchi University. Visiting Professor in Delhi School of Economics also.

Look at simplicity For the poor and helpless people have sat on the road in Delhi. As always, jeans have been like this. This is not the first event. For the nation's creation, which used to give the idea to the previous government, dozens of whose books are showing the path of Indian economics, he is fighting for those poor people whose Modi government is bent on making Adani / Ambani's mule.

If you want to do Google type-Jean Dreze


Prof Jean Dreze 
is a Belgian-born Indian development economist and activist. 
His work in India include issues like hunger, famine, gender inequality, child health and education, and the NREGA. 
Born : 1960, In Belgium
Nationality : Now Indian
Spouse:  Beela Bhatia
Influenced by : Prof  Amartya Sen

Education :  Indian Statistical Institute, University of Essex USA



www.AlfaTravelBlog.com




jean dreze contact details,
jean dreze ranchi university,
jean dreze married,
jean dreze bela bhatia,
jean dreze articles,
jean dreze nrega,
jean dreze internship,

www.AlfaBloggers.com
www.Flying-Crews.com
www.PopularFemalePilots.com
www.Portrait-Business-Woman.com
www.BestInternationalEducation.com
www.WorldOfAirplane.com
www.SatpuraJungleRetreat.com

www.AsiaBlogAward.com
www.AllAirlinesNews.com


Comments