Let Your Child Play and Enjoy Life

When you teach your children in the city's most prominent, most prestigious and most expensive school for 12 years, do you ask for a secure future guarantee for your child from that school, society, or government?

Then, when you send it to a very expensive private engineering college or management college and spend millions of rupees, do you ask for a secure future and career guarantee from your college or from society or government?

You spend your child's day-to-day drinking on a minimum of 16 - 18 years, and spend your hard earned money and sweat, and then one day you find that your girlfriend should have any 7000 rupees Not even giving a job to ..........

India's education system does not guarantee career and future of its students, despite it I have not seen a single man till date which raises questions about its credibility. After all, Btech and Mtech are also selling the building material ballast sand pumps ........
Five years in Delhi, Mumbai, Kota, Indore, even those preparing for the IAS, one day is seen doing a stomach job.

Then why do people ask for a secure future guaranteed only for the players?
Why do you weigh competitive cricket with just medal and government jobs?
Anyone who has competed for two or four years in competitive sports, talk to him ....... The intoxication of alcohol, hemp, hemp, smack, heroin or cocaine, heard in a few hours, gets a kick from them. It is a few hours ... ... but the addition of sports is alive all the time.
He is very old ...
Whatever the hobbies, be a lover, in some days, the ghost of everyone goes away ... ..and just a drug addiction in such a way that the man has won the whole life in his heart ... Talk to a player and see ... ... he will tell you to play in the field, win the defeat and spend the moment on the stand, the happiest moment of his life ...
Talk to a former player, he will tell you that even today, 20-25 years later he dreams of those days when he used to play ......... Add a player to the Time Machine, As if he got the chance to live his life again, then the player would like to start his new life on the same ground .......

This is Sports ........ Do not just try to add Sports and Medal and Job. This is a lifestyle ........ It is a supernatural pleasure which every child has the right to receive. Do not deprive your child of this Happiness.

Make him Sports Man

Not Professional Player  right, amateur right Not the right of the district level, nor Olympic

Give your child a chance to play.

Professional Sports require 4-8 hours of training every day.

It's just an hour for Amateur Sports.

Let Your Child Play ......... and Enjoy Life.

🙏🏻जब आप अपने बच्चों को 12 साल तक शहर के सबसे नामी , सबसे प्रतिष्ठित और सबसे महंगे स्कूल में पढ़ाते हैं तो क्या आप उस स्कूल से , समाज से , या सरकार से अपने बच्चे के लिए एक सुरक्षित भविष्य की गारंटी मांगते हैं ?

फिर जब आप उसे एक बेहद महंगे प्राइवेट इंजीनियरिंग कॉलेज , या मैनेजमेंट कॉलेज में लाखों रु खर्च कर पढ़ने भेजते हैं , तो क्या उस कॉलेज से या समाज से या सरकार से अपने बच्चे के लिए एक सुरक्षित भविष्य और career की गारंटी मांगते हैं ?

आप कम से कम 16 - 18 साल तक अपने बच्चे को दिन रात पान के पत्ते की माफ़िक सेते हैं , और अपने गाढ़े पसीने और खून की कमाई खर्च कर देते है , फिर एक दिन आपको पता लगता है कि आपके Son  को तो कोई 7000 रुपल्ली की नौकरी भी नहीं दे रहा ..........

भारत का एजुकेशन सिस्टम अपने students को career और भविष्य की कोई गारंटी नहीं देता , इसके बावजूद मैंने आज तक एक भी आदमी नहीं देखा जो इसकी विश्वसनीयता पे सवाल उठाये । आखिर लोग Btech और Mtech कर के भी तो बिल्डिंग material गिट्टी बालू cement बेच रहे हैं ........ 
5 साल दिल्ली, मुंबई, कोटा,इंदौर में IAS की तैयारी करने वाले भी तो एक दिन पेट पालते नौकरी व्यवसाय करते नज़र आते ही हैं ।

तो फिर लोग खिलाड़ियों के लिए ही क्यों सुरक्षित भविष्य की गारंटी मांगते हैं ?
आप competitive Sports को सिर्फ medal और सरकारी नौकरी से ही क्यों तौलते हैं ?
जिस किसी व्यक्ति ने दो चार साल competitive sports की है , उस से बात करके देखिये ...... शराब , गांजा , भांग , स्मैक, हेरोइन या कोकीन का नशा , सुना है कुछ घंटों में उतर जाता है , इनसे जो kick मिलती है , वो कुछ घंटे की होती है ........ पर sports का नशा सारी ज़िन्दगी तारी रहता है जनाब ........

उसका खुमार ता उम्र रहता है ........

कैसा भी शौक हो , प्रेमी प्रेमिका हो , कुछ दिन में सबका भूत उतर जाता है ....... सिर्फ और सिर्फ Sports का एक नशा ऐसा होता है जिसकी खुमारी में आदमी सारी ज़िन्दगी जीता है ........ 

किसी खिलाड़ी से बात करके देखिये ........ वो आपको बताएगा कि मैदान में खेलते , हारते जीतते और victory stand पे बिताए हुए पल , उसकी ज़िन्दगी के सबसे हसीन पल थे ......... 

किसी पूर्व खिलाड़ी से बात कीजिये , वो आपको बताएगा कि उसे आज भी , 20 - 25 बरस बाद भी उन दिनों के सपने आते हैं , जब वो खेलता था ......... किसी खिलाड़ी को Time Machine में डाल दीजिये , मानो उसे अपना जीवन फिर से जीने का मौक़ा मिले , तो खिलाड़ी अपना नया जीवन भी उसी ground से शुरू करना चाहेगा .......

ये है Sports ........ Sports को सिर्फ और सिर्फ Medal और नौकरी से जोड़ के मत देखिये । 

ये एक जीवन शैली है ........ 

ये वो अलौकिक सुख है जिसे प्राप्त करने का अधिकार हर बच्चे को है । अपने बच्चे को इस सुख से वंचित मत कीजिये ।

उसे sports कराइये । 
Professional न सही , शौकिया ही सही । न Olympic तो district level की ही सही । 
अपने बच्चे को खेलने का मौक़ा दीजिये ।

प्रोफेशनल sports के लिए रोज़ाना 4 - 8 घंटे की ट्रेनिंग की ज़रूरत होती है ।
शौकिया स्पोर्ट्स के लिए सिर्फ एक घंटा भी काफी है ☺☺☺☺

Let your child play ......... and enjoy Life .

Comments