Jio Mobile Set

Ambani's company Reliance has given patriotic orders to the enemy country "China" to make 30 million "Jio Mobile Set" after the government's permission!



Reliance will sell the Jio sets in three consignments of 10 to 10 million rupees, and will pay the Indians 1500-1500 rupees (security deposit) to be used, not sold!


Now when the sale is not even 28% GST! In a consolidation of 10 crores sets, the amount of tax of Rs 42,000 crores to the country according to the tax of 28% is Rs 1500 per set.

With a total of three consignments, the amount of tax of Rs. 126000 crores will be given to the country in government protection and whose government?

This is a straightforward math of high level of corruption, which all must have come to understand!

Secondly, Relience Jio Security Deposit ₹ 1500 will return three years later, but will not take back your phone. Ever wondered - why?

Because this company will not show the purchase of 10 million phones (the first store) i.e. in the purchase accounts nor will they take them in the trading stock, but will show the expenditure in the accounts of the fifteen lakh crores in the name of the promotion, in the amount of profit Less will be 35% i.e., direct savings of 5 lakh crores, in other words, India will have a revenue loss of five lakh crores!

There will be no cost of reliance because the security of the phone has been taken as security deposit!

It is called garrand master stroke!
Three hunt with one arrow

(1) The government is cheaper by 28% GST.

(2) Five lakh crore income tax was not paid by showing the expenditure of 15 lakh crore!

(3) On one hand, occupy one side for three years, the contestant clearly!

This is the appeal of the BJP government to the rest of the countrymen that they should become patriots by boycotting the skins, pitches, etc. made by China.




अंबानी की कम्पनी रिलायंस ने दुश्मन देश " चीन " को 30 करोड़ " जियो मोबाईल सेट " बनाने का देशभक्त आर्डर सरकार कि अनुमती के बाद दे दिया है  !


रिलायंस कम्पनी 10-10 करोड़ की 3 खेपों मे ये जियो सेट मँगाएगी, पैक करेगी और भारतियों को 1500-1500 रुपयो मे ( सिक्यरिटी डिपॉज़िट ) इस्तेमाल करने के लिये देगी , बेचेगी नही !


अब जब बिक्री नही तो 28% जीएसटी भी नही ! मतलब 10 करोड़ सेट की एक खेप मे 1500 रुपये प्रति सेट पर 28% के टैक्स के हिसाब से देश को 42000 करोड़ रुपयों के टैक्स का चूना !

कुल तीनो खेप मिलाकर 126000 करोड़ रुपयों के टैक्स का चूना देश को सरकारी संरक्षण मे और सरकार किसकी ?

उच्च स्तरीय भृष्टाचार की ये सीधी सीधी गणित है जो सभी को समझ मे आ ही गई होगी !

दूसरी बात Relience सिक्यरिटी डिपॉज़िट के ₹1500 तो तीन साल बाद लौटा देगी, पर अपना फ़ोन वापस नहीं लेगी । कभी सोचा है - क्यों ?

क्योंकि ये कम्पनी 10 करोड़ फ़ोनो की खरीद ( पहली खेप ) यानी ख़रीदी अकाउंट्स में नहीं दिखाएगी ना ही इनको ट्रेडिंग स्टॉक में लेगी बल्कि पन्द्रह लाख करोड़ का ख़र्चा अकाउंट्स में दिखाएगी प्रमोशन के नाम पर , जितना ख़र्चा दिखाएगी तो उतनी कमाई ( profit ) में से कम हो जाएगा और इंकम टैक्स लगभग 35% यानी पाँच लाख करोड़ की सीधी बचत होगी , दूसरे शब्दों में भारत को पाँच लाख करोड़ के राजस्व का घाटा होगा ! 

Relience का कुछ भी ख़र्च नहीं होगा क्योंकि फ़ोन की पूरी क़ीमत के बराबर सिक्यरिटी डिपॉज़िट के तौर पर ले लिया है !

इसे कहते हैं गरैन्ड मास्टर स्ट्रोक ! 
एक तीर से तीन शिकार 

(1) सरकार को 28% GST की चपत लगने से प्रोडक्ट सस्ता हुआ ।

(2) 15 लाख करोड़ का खर्च दिखाने से पाँच लाख करोड़ इनकम टैक्स नहीं भरना पड़ा ! 

(3) मार्केट पर तीन साल के लिए एक तरफ़ॉ क़ब्ज़ा, प्रतियोगी साफ़ !


बाकी देशवासियों से भाजपा सरकार की यही अपील है कि चीन के बने हुए झालर, पिचकारी आदि सामान का बहिष्कार कर देशभक्त बनें ।


Nidhi Jain [ M Sc Comp ] 
General Manager Operations
Alfa Bloggers Group
203 Royal Regency
Nr Reliance Fresh 
Airport Road Indore 452005 
Nidhi@Flying-Crews.com











Comments